Thursday, June 04, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
हाईकोर्ट की निगरानी में न्यायिक आयोग करे पिछले 13वर्षों के कृषि घोटाले की जांच - हरपाल सिंह चीमाप्राइवेट स्कूलों को ट्यूशन फीस के नाम पर मोटी रकम नहीं वसूलने देगी AAP - शारिक अफरोज‘दिल्ली कोरोना’ एप लांच, एक क्लिक से अस्पतालों में खाली कोविड बेड और वेंटिलेटर की मिलेगी जानकारी: अरविंद केजरीवालकैप्टन सरकार ने आम घरों के बच्चों के डॉक्टर बनने पर लगाई पाबंदी, मंत्री ओपी सोनी की कोठी का घेराव करेंगेराजस्थान में गरीबों को मुफ्त राशन के नाम पर धोखा दे रही है प्रदेश की गहलोत सरकार - महेंद्र मीनादिल्ली बॉर्डर एक सप्ताह के लिए सील, आगे का फैसला जनता के सुझाव के आधार पर होगा - अरविंद केजरीवालमनीष सिसोदिया ने ऑनलाइन और एसएमएस/आईवीआर आधारित शिक्षा की समीक्षा कीदिल्ली को 5000 करोड़ की मदद करे केंद्र सरकार, ताकि सैलरी का भुगतान हो सके: उपमुख्यमंत्री
National

एस.सी विद्यार्थियों के लिए वजीफे न जारी करने का मामला

October 08, 2019 09:04 PM

 आम आदमी पार्टी (आप) ने केंद्र की मोदी और राज्य की कांग्रेस सरकार पर लाखों दलित विद्यार्थियों समेत सैंकड़े सरकारी और गैर सरकारी प्रोफेशनल और डिग्री कालेजों-यूनिवर्सिटियों और हजारों की संख्या में टीचिंग और नान -टीचिंग स्टाफ का भविष्य तबाह करने का गंभीर आरोप लगाया है।
    'आप' हैडक्वाटर द्वारा जारी बयान में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा और एस.सी विंग के प्रधान व विधायक मनजीत सिंह बिलासपुर और सह-प्रधान व विधायक कुलवंत सिंह पंडोरी ने कहा कि राज्य के सैंकड़े कालेजों और प्रमुख यूनिवर्सिटियों का पोस्ट मैट्रिक स्कालरशिप स्कीम के अंतर्गत मिलने वाला 1700 करोड़ रुपए का बकाया केंद्र और राज्य सरकार की तरफ खडा है, जिस का नुकसान दलित विद्यार्थियों, शिक्षा संस्थाओं और स्टाफ को उठाना पड़ रहा है।
    हरपाल सिंह चीमा ने बताया कि साल 2017-18 में केंद्र सरकार की तरफ से जारी हुई वजीफा राशि का पंजाब सरकार ने अभी तक उपयोग प्रमाणपत्र (यूसी) नहीं दिया। जिस कारण जहां साल 2018-19 और वर्तमान साल 2019 -20 का 1000 करोड़ रुपए से अधिक का बकाया सरकारों की तरफ खडा है। वहीं साल 2018-19 में पंजाब के प्रोफेशनल और डिग्री कालेजों और यूनिवर्सिटियों में एक लाख से अधिक दलित विद्यार्थी उच्च या प्रौफेशनल शिक्षा लेने से वंचित रह गया।

कैप्टन और मोदी सरकार ने लाखों विद्यार्थी और सैंकड़े शिक्षा संस्थान किए तबाह -हरपाल सिंह चीमा 


    इतना ही नहीं राज्य और केंद्र सरकार के नकारात्मक व्यवहार के कारण ढुड्डीके, गोन्याना, बाघा पुराना समेत पंजाब में 50 के करीब प्राईवेट प्रौफेशनल कालेजों को ताला लग गया और सरकार की अपनी पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला समेत सैंकड़ों कालेज-यूनिवर्सिटियों पर वित्तीय संकट मंडरा रहा है। हजारों टीचिंग और नान टीचिंग स्टाफ को नौकरियों से हाथ धोने पड़ गए हैं और हजारों पर तलवार लटक रही है।
    मनजीत सिंह बिलासपुर और कुलवंत सिंह पंडोरी ने कहा कि पंजाब खास कर फाजिल्का, दाखा, फगवाड़ा और मुकेरियां के लोगों और दलित विद्यार्थियों को राज्य सरकार के लिए कांग्रेस से और केंद्र सरकार के लिए अकालियों और भाजपा नेताओं से इस नाकामी का उप-चुनाव के दौरान हिसाब मांगना चाहिए।
  

Have something to say? Post your comment
More National News
युवा दिमाग को दिशा देना समाज का सामूहिक दायित्व: मनीष सिसोदिया, डिप्टी सीएम
RML अस्पताल गलत परिणाम दे रहा है, सरकार को अस्पताल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए: राघव चड्ढा
डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कोरोना के खिलाफ ग्लोबल समिट 2020 को संबोधित किया श्रमिक विरोधी कानूनों के खिलाफ श्रमिक विकास संगठन(SVS)का तीन दिवसीय उपवास सत्याग्रह
चन्द्रमुखी रेपसवाल बनी AAP जयपुर शहर महिला विंग अध्यक्ष, प्रदेश प्रभारी नीलम क्रांति ने की घोषणा
हाईकोर्ट की निगरानी में न्यायिक आयोग करे पिछले 13वर्षों के कृषि घोटाले की जांच - हरपाल सिंह चीमा
किसानों के साथ भद्दा मजाक है धान के मूल्य में मामूली वृद्धि - भगवंत मान
प्राइवेट स्कूलों को ट्यूशन फीस के नाम पर मोटी रकम नहीं वसूलने देगी AAP - शारिक अफरोज
‘दिल्ली कोरोना’ एप लांच, एक क्लिक से अस्पतालों में खाली कोविड बेड और वेंटिलेटर की मिलेगी जानकारी: अरविंद केजरीवाल
कैप्टन सरकार ने आम घरों के बच्चों के डॉक्टर बनने पर लगाई पाबंदी, मंत्री ओपी सोनी की कोठी का घेराव करेंगे