Wednesday, October 16, 2019
Follow us on
Download Mobile App
National

पंजाब भर में फैला 'आप' का बिजली आंदोलन-आप

February 11, 2019 06:28 PM

जाखड़ इस्तीफा दें या बिजली कंपनियों कीजांच के लिए कैप्टन के विरुद्ध खोले मोर्चा -भगवंत मान
चौथे दिन 1,000 से पार हुई गांव बिजली कमेटियों की संख्या 
जाखड़ ऐसे बोल रहे हैं जैसे आज भी सरकार बादलों की हो, मान ने कसा तंज

    आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब के प्रधान और संसद मैंबर भगवंत मान ने बताया है कि 'आप' का बिजली आंदोलन राज्य भर में इस लिए तेजी के साथ फैल रहा है, क्योंकि बेहद महंगे और नाजायज बिजली बिलों ने हर गरीब और अमीर को हद से ज्यादा सताया हुआ है। वहीं पिछली बादल सरकार की तरह कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार भी कुंभ करनी नींद में सो रही है, बिजली बिलों से पीडितों का ना तो कांग्रेसी सहयाता कर रहे हैं और न ही बिजली विभाग।
    'आप' मुख्य दफ्तर द्वारा ब्यान में भगवंत मान ने कहा कि वह पिछले कई वर्षों से लगातार महंगी की जा रही बिजली के विरुद्ध आवाज उठाते आए हैं। पिछली बादल सरकारके  समय जब सुखबीर सिंह बादल बठिंडा समेत सरकारी थर्मल प्लांटों के यूनिट बंद कर निजी कंपनियों के साथ बेहद महंगी बिजली दरों पर समझौते कर रहे थे तो उस समय भी 'आप' ने डट कर विरोध किया था, क्योंकि सुखबीर सिंह बादल ने इन निजी कंपनियों के साथ हजारों करोड़ रुपए की हिस्सेदारी की है। जिसका कैप्टन सरकार को अपने चुनावी वायदे मुताबिक जांच करवानी चाहिए थी परंतु सत्ता में आने के बाद कैप्टन सरकार भी इन निजी बिजली कंपनियों के साथ मिल गई। 

भगवंत मान ने सुनील जाखड़ को चुनौती दी है कि यदि कैप्टन अमरिन्दर सिंह सुखबीर सिंह बादल के साथ मिलीभुगत के कारण जाखड़ की नहीं सुनते तो जाखड़ समेत सभी कांग्रेसियों को या तो जमीर की आवाज पर इस्तीफे दे देने चाहिएं .या फिर कांग्रेस प्रधान राहुल गांधी के घर के समक्ष पक्का मोर्चा लगा लेना चाहिए।


    पंजाब कांग्रेस के प्रधान और संसद मैंबर सुनील जाखड़ द्वारा बिजली के मुद्दे पर आज दी गई प्रतिक्रिया कि 2300 करोड़ रुपए प्रति वर्ष आज भी उन तीन निजी थर्मल प्लाटों की जेब में जा रहा है, जिनकी सुखबीर बादल के साथ हिस्सेदारी है और यह पैसा सरकार का पैसा नहीं बल्कि लोगों का पैसा है जो बिना बिजली खप्त उनके पास जा रहा है का सख्त नोटिस लेते पूछा कि क्या आज पंजाब में कांग्रेस की सरकार नहीं? क्योंकि जाखड़ के ब्यान से स्पष्ट होता है जैसे आज भी पंजाब में बादलों की सरकार हो और जाखड़ समेत बहुत से कांग्रेसी कैप्टन की सरकार में बेबस हों।
    भगवंत मान ने सुनील जाखड़ को चुनौती दी है कि यदि कैप्टन अमरिन्दर सिंह सुखबीर सिंह बादल के साथ मिलीभुगत के कारण जाखड़ की नहीं सुनते तो जाखड़ समेत सभी कांग्रेसियों को या तो जमीर की आवाज पर इस्तीफे दे देने चाहिएं .या फिर कांग्रेस प्रधान राहुल गांधी के घर के समक्ष पक्का मोर्चा लगा लेना चाहिए।
    भगवंत मान ने कहा कि आज जब 'आप' के बिजली आंदोलन ने पंजाब के लोगों को नई उम्मीद दिखाई है तो कांग्रेसी, अकाली -भाजपा और इन की ए-बी टीमें बौखला गई हैं।
    भगवंत मान ने बताया कि आज बिजली आंदोलन के चौथे दिन पंजाब के करीब 650 गांवों में जनतक इक्कट्ठ हुआ और गांव स्तर पर बिजली कमेटियों का गठन हुआ है, जबकि बीते दिन रविवार को 371 गांवों में बिजली अंदोलन के अंतर्गत बिजली कमेटियों का गठन हुआ था।
  
   

 
 
 
 
 
 
 

 

Have something to say? Post your comment
More National News
भाजपा द्वारा तमाम बाधाएं लगाने के बावजूद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने C-40 सम्मेलन को किया संबोधित: संजय सिंह
बस तीन सप्ताह और घर में साफ पानी की जांच करें और परिवार को डेंगू के खतरे से मुक्त करें - अरविंद केजरीवाल
एस.सी विद्यार्थियों के लिए वजीफे न जारी करने का मामला
हर दुर्घटना पीड़ित की जान बचाएंगे-श्री केजरीवाल
CM ने दिल्ली के सभी प्राइवेट स्कूलों को डेंगू अभियान का हिस्सा बनाया
ऋणी किसानों को कुर्की के नोटिस भेज कर किसानों के पीठ में छुरा मार रहे हैं कैप्टन- हरपाल सिंह चीमा
केजरीवाल दिल्ली की सड़कों को बनाएँगे गड्ढा-मुक्त
दिल्ली के लाखों किरायेदारों को भी मिलेगी मुफ्त बिजली
धान के सीजन के लिए चुनौती बनी समस्याओं का मामला
दिल्ली में महंगे प्याज से निकलते आंसू को सीएम ने पोछा, कल से सरकार बेचेगी सस्ता प्याज