Wednesday, October 16, 2019
Follow us on
Download Mobile App
National

आज अमेरिकी एक्सपर्ट करेंगे भारतीय EVM को सबके सामने हैक

January 21, 2019 01:02 PM

भारतीय EVM को कैसे हैक करें, लोकसभा चुनाव में तीन महीने से भी कम का समय बचा है. ऐसे में ईवीएम की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर सवाल उठ रहे हैं. इन सवालों के बीच ही लंदन में एक एक्सपर्ट बताएंगे कि किस तरह भारतीय EVM को हैक किया जा सकता है.

देश में जंहा एक ओर लोकसभा चुनाव का माहौल बनना शुरू हो गया है, वहीं राजनीतिक दलों में वार-पलटवार का सिलसिला जारी है. ऐसे में चुनाव से ठीक पहले एक बार फिर EVM पर चर्चा शुरू हुई है. ईवीएम की सुरक्षा पर काफी राजनीतिक दल पहले भी कई बार सवाल उठा चुके हैं, इस बीच सोमवार को लंदन में कुछ एक्सपर्ट भारत में इस्तेमाल किए जाने वाले EVM को हैक करके दिखाएंगे. इस हैकिंग का प्रसारण लाइव किया जाएगा, कुछ एक्सपर्ट का कहना है कि EVM को हैक करना काफी आसान है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यूरोप में मौजूद इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन (IJA) की ओर से इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. जिसमें एक अमेरिकी साइबर एक्सपर्ट को बुलाया गया है. गौरतलब है कि बीते कई चुनावों में राजनीतिक दलों ने ईवीएम के हैक होने के आरोप लगाए हैं, हालांकि चुनाव आयोग (EC) ने लगातार इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है. 

देश में जंहा एक ओर लोकसभा चुनाव का माहौल बनना शुरू हो गया है, वहीं राजनीतिक दलों में वार-पलटवार का सिलसिला जारी है. ऐसे में चुनाव से ठीक पहले एक बार फिर EVM पर चर्चा शुरू हो गई है. ईवीएम की सुरक्षा पर काफी राजनीतिक दल पहले भी कई बार सवाल उठा चुके हैं,

गौरतलब है कि 2004 के बाद से ही भारत में चुनाव में ईवीएम का इस्तेमाल तेजी से हो रहा है. 2014 के चुनाव के बाद कई विपक्षी दलों ने बीजेपी पर ईवीएम में धांधली करने का आरोप लगाया है. 2019 के लोकसभा चुनाव में अब सिर्फ तीन महीने ही बचे हैं, रिपोर्ट्स की मानें तो चुनाव आयोग मार्च महीने की शुरुआत में चुनाव की तारीखों को ऐलान कर सकता है.

विपक्ष ने बनाई समिति

 आपको बता दें कि हाल ही में कोलकाता में हुई विपक्षी दलों की महारैली के बाद नेताओं ने ईवीएम की सुरक्षा के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया. विपक्षी पार्टियों की ओर से एक समिति का गठन किया गया है, जो ईवीएम की सत्यता पर मंथन करेगी और इसके बारे में चुनाव आयोग को अपनी शंकाओं से अवगत कराएगी.

विपक्ष की इस समिति में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव, कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी, बहुजन समाज पार्टी नेता सतीश चंद्र मिश्र और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शामिल हैं. इस मुद्दे को लेकर ये लोग जल्द ही चुनाव आयोग से मुलाकात भी कर सकते हैं.

साभार : आज तक 

Have something to say? Post your comment
More National News
भाजपा द्वारा तमाम बाधाएं लगाने के बावजूद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने C-40 सम्मेलन को किया संबोधित: संजय सिंह
बस तीन सप्ताह और घर में साफ पानी की जांच करें और परिवार को डेंगू के खतरे से मुक्त करें - अरविंद केजरीवाल
एस.सी विद्यार्थियों के लिए वजीफे न जारी करने का मामला
हर दुर्घटना पीड़ित की जान बचाएंगे-श्री केजरीवाल
CM ने दिल्ली के सभी प्राइवेट स्कूलों को डेंगू अभियान का हिस्सा बनाया
ऋणी किसानों को कुर्की के नोटिस भेज कर किसानों के पीठ में छुरा मार रहे हैं कैप्टन- हरपाल सिंह चीमा
केजरीवाल दिल्ली की सड़कों को बनाएँगे गड्ढा-मुक्त
दिल्ली के लाखों किरायेदारों को भी मिलेगी मुफ्त बिजली
धान के सीजन के लिए चुनौती बनी समस्याओं का मामला
दिल्ली में महंगे प्याज से निकलते आंसू को सीएम ने पोछा, कल से सरकार बेचेगी सस्ता प्याज