Saturday, March 25, 2017
Follow us on
BREAKING NEWS
‘राष्ट्रीय महिला आयोग और दिल्ली महिला आयोग से गुज़ारिश, ऐसे जनप्रतिनिधियों पर करें सख्त कार्रवाई’Punjab Govt should avoid “VIP Culture” and use of Red Beckon: Phoolkaਲਾਲ ਬੱਤੀ ਅਤੇ ਵੀਆਈਪੀ ਕਲਚਰ ਤੋਂ ਗੁਰੇਜ ਕਰੇ ਪੰਜਾਬ ਸਰਕਾਰ: ਫੂਲਕਾलाल बत्ती और वीआईपी कल्चर से गुरेज करे पंजाब सरकार - फूलकाअपने सभी 153 पार्षदों के टिकट काट बीजेपी ने स्वीकारी MCD में अपनी विफलताबदलाव का जुनून कुछ यूं बदल रही है दिल्लीनेताजी नगर केंद्रीय कर्मचारियों की कॉलोनियों के केंद्र सरकार द्वारा पुनर्वास को लेकर कमांडो सुरेंद्र सिंह वी के नायडू जी की पर्सनल सेक्रेटरी से मिले I पंजाब विधानसभा में मज़बूत विपक्ष की ज़िम्मेदारी निभाएंगे: एच एस फुल्का
Revolutionary Poems
आम आदमी तो आम होता है...

कभी गुस्सा तो प्यार कभी,सच-झूठ का कारोबार कभी ,
परिवार और रोजी-रोटी, इनका सारा संसार यही,
आजकल ख़बरों में, प्रायः गुमनाम ही होता है....

 

वो 49 दिन, बहुत याद आएगे...

वो जनता की मर्ज़ी पे सत्ता मे आना,
आम आदमी का आसमान छू जाना,
वो मेट्रो से तेरा, ताजपोशी को आना,
वो राम-लीला मैदान का मंज़र सुहाना,
वो सपनो की दुनिया हक़ीकत मे आना,
वो आँखो की नमी, होंठों का मुस्कुराना,
कभी तो हंसाएँगे , कभी तो रुलाएँगे. वो 49 दिन..

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला / कुमार विश्वास

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला, देखूँ,
है अँधेरे में उजाला, तो उजाला देखूँ
आइना रख दे मेरे हाथ में,आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ
जिसके आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा/ कुमार विश्वास

भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा!
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा!!
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का!
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा!!

कोई दीवाना कहता है

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है !
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है !!
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है !
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !!

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है !
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है !!
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं !
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है !!

गर्मी की कुंडलियाँ - अरविंद कुमार झा

गर्मी का यह हाल है बिजली पानी बंद
ये सब छोटी बात है हम सब है स्वच्छंद