Monday, April 24, 2017
Follow us on
BREAKING NEWS
दिल्ली नगर निगम चुनाव में आम आदमी पार्टी की 272 में से 218 पर बढ़तचुनाव प्रचार के अंतिम चरण में नेहा न. 1 आस-पास भी नहीं ठहर पा रहे हैं प्रतिद्वंदी प्रत्याशीविकास किया है, विकास करेंगे, जनसेवा में जीवन न्योछावर करेंगे : सोमवती बोली, जीवन का एक मात्र लक्ष्य जनता की सेवा‘आप’ ने लिखा बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को पत्र, दिल्ली नगर निगम में भाजपा के कुशासन से कराया अवगत'आप' के रियाजुद्दीन के समर्थन में उमड़ रहा है शास्त्री पार्क में जन सैलाबजनता का मिल रहा है भरपूर समर्थन, सर्वे दिखा रहा है निश्चित जीतचुनाव प्रचार के अंतिम चरण में पहले नम्बर पर पहुंचे देश राज अग्रवालघोंडा वार्ड में समस्याओं की अनदेखी, निगम उदासीन: पुष्पा रानी
 
Revolutionary Poems
आम आदमी तो आम होता है...

कभी गुस्सा तो प्यार कभी,सच-झूठ का कारोबार कभी ,
परिवार और रोजी-रोटी, इनका सारा संसार यही,
आजकल ख़बरों में, प्रायः गुमनाम ही होता है....

 

वो 49 दिन, बहुत याद आएगे...

वो जनता की मर्ज़ी पे सत्ता मे आना,
आम आदमी का आसमान छू जाना,
वो मेट्रो से तेरा, ताजपोशी को आना,
वो राम-लीला मैदान का मंज़र सुहाना,
वो सपनो की दुनिया हक़ीकत मे आना,
वो आँखो की नमी, होंठों का मुस्कुराना,
कभी तो हंसाएँगे , कभी तो रुलाएँगे. वो 49 दिन..

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला / कुमार विश्वास

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला, देखूँ,
है अँधेरे में उजाला, तो उजाला देखूँ
आइना रख दे मेरे हाथ में,आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ
जिसके आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा/ कुमार विश्वास

भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा!
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा!!
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का!
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा!!

कोई दीवाना कहता है

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है !
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है !!
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है !
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !!

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है !
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है !!
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं !
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है !!

गर्मी की कुंडलियाँ - अरविंद कुमार झा

गर्मी का यह हाल है बिजली पानी बंद
ये सब छोटी बात है हम सब है स्वच्छंद