Friday, August 23, 2019
Follow us on
Download Mobile App
Manifesto

AAM AADMI PARTY MANIFESTO (Kasturba Nagar)

August 31, 2014 02:29 AM

इमानदारी से जाँचेंगे और साफ़ नीयत से समस्या सुलझायेंगे। अगर कोई दिक्कत आती है तो जनता के सामने रखेंगेए और जनता से निर्देश माँगेगे।

हमारा उम्मीदवार हर साल इस दस्तावेज़ को लेकर आप के सामने खड़ा होगाए और बतायेगा कि इन मुद्दों पर उस ने क्या क्या किया है।

हमारी एक.एक विधानसभा सीट लोकतंत्र की उस नई इमारत की ईंट है जो हम और आप मिलकर खड़ी करने का सपना देख रहे हैं। हमारे सपनों कि दिल्ली में हर दिल्लीवासी को रोज़गार होगाए इज्जत से जीने लायक आमदनी होगीए रहने योग्य घर होगाए उचित दाम पर बिजली होगीए ज़रूरत के लिये पर्याप्त पानी होगाए शिक्षा और स्वास्थ्य की न्यूनतम सुविधायें होंगी।

यह सपना एक नई राजनीतिए एक नए समाजए एक नए लोकतंत्र और एक नए देश का भी है जिसमें सब खुशहाली और भाईचारे से रह सकें।

इस बार का वोट इस सपने के नाम!

इस बार एक मौका अपने आप को!

इस बार चलेगी झाड़ू!

सुनीता खुराना ;शीनू खुराना
कभी अपने लिए किसी के सामने हाथ फैलाना उचित नहीं समझा और न कभी ऐसी नौबत आई मगर समाज के उपेक्षित वर्ग व शरीरिक रूप से अक्षम बच्चों की बेवशी उनसे देखी नहीं गई तो इस उम्मीद से हर द्वार खट-खटाया कि संभवतयः कोई हृदय पसीजे़ और इन बेवश बच्चों की मदद हो। वे ‘जन माध्यम’ के ज़रिए मन्द बु(ि बच्चों के लिए धन एकत्र कर सेवा कार्यों को अंजाम देती थी तो अक्षय प्रतिष्ठान को माध्यम बना विकलांग बच्चांे की सहायता के लिए लोगों को प्रेरित करती थी। ‘चमन’ स्वयंसेवी संस्था के माध्यम से वे लम्बे समय तक एमसीडी के स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब बच्चों को खाली समय में उन विषयों की एक्ट्रा क्लासेज़ लेती थी जिनमें वे कमज़ोर होते थे। इसके अतिरिक्त भी कई अन्य गतिविधियों के माध्यम से इन बच्चों का शरीरिक व मानसिक विकास किया जाता था। इन्होंने आरडब्लूए के माध्यम से भी समाज़ सेवा में खूब मन लगा कर काम किया वर्ष 2006 में अरविंद से मिली और तभी से उनके हर आंदोलन में बढ़-चढ़ कर भूमिका निभाने लगी। यह शीनू खुराना अब आम आदमी पार्टी की कस्तूरबा नगर विधान सभा क्षेत्र से उम्मीदवार हैं।
सुनीता खुराना ने हमें शपथ पत्र दिया है कि चुनाव जीतने के बाद वे लाल बत्ती की गाड़ी नहीं लेंगी। बंगला नहीं लेंगी और अपने लिए कोई सुरक्षा भी सरकार से नहीं लेंगी। वह आम आदमी की तरह, आम आदमी के बीच रह कर जनता की सेवा करेंगे।

Have something to say? Post your comment