Sunday, July 05, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने लीड पोर्टल लांच किया, पहली से 12वीं कक्षा तक की शिक्षण सामग्री मिलेगीकेंद्र सरकार द्वारा जारी होम आइसोलेशन की गाइडलाइन, हू-ब-हू केजरीवाल सरकार की व्यवस्था की नकलसीएम अरविंद केजरीवाल ने कोरोना योद्धा स्वर्गीय डॉ. असीम गुप्ता के परिवार को 1 करोड़ का चेक सौंपाCM केजरीवाल और DyCM सिसोदिया ने प्लाज्मा बैंक का किया दौरा, डोनर से मुलाकात कर हाल जानादिल्ली सरकार ने आर्थिक सुधार के उपायों का पता लगाने के लिए 12 सदस्यीय विशेषज्ञ समिति का किया गठनदिल्ली के आईएलबीएस अस्पताल में देश का पहला प्लाज्मा बैंक शुरू - अरविंद केजरीवालपेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों के खिलाफ AAP का राष्ट्रव्यापी प्रदर्शनकॉमनवेल्थ गेम्स के कोविड सेंटर में महिलाओं व पुरुषों के लिए अलग वार्ड होंगे - अरविंद केजरीवाल
National

प्राइवेट स्कूलों को ट्यूशन फीस के नाम पर मोटी रकम नहीं वसूलने देगी AAP - शारिक अफरोज

June 02, 2020 08:15 PM

देहरादून/हरिद्वार: प्राइवेट स्कूलों द्वारा ट्यूशन फीस के नाम पर मोटी रकम लिए जाने की समस्या का आम आदमी पार्टी ने संज्ञान लिया। आप उत्तराखण्ड के प्रदेश उपाध्यक्ष शारिक अफरोज ने बताया कि उन्हें फोन पर लगातार अभिभावकों द्वारा अवगत कराया जा रहा था की प्राइवेट स्कूल ट्यूशन फीस के नाम पर ही खासी रकम मांग रहे हैं। इस संदर्भ में शारिक अफ़रोज़ ने डायरेक्टर जनरल ऑफ एजुकेशन(उत्तराखण्ड) को पत्र लिखकर पूरे प्रदेश में एक समान ट्यूशन फीस दर लागू करने की मांग की है।

शारिक ने बताया कि अधिकांश प्राइवेट स्कूल के टीचर्स अपने प्रबंधन के निर्देश पर घर से ही व्हाट्सअप, वीडियो आदि के माध्यम से स्टडी मटेरियल दे कर पढ़ाई के नाम पर खानापूर्ति कर रहे है। स्टडी मटेरियल फोन पर आजाने के बाद अभिभावकों को इसे बच्चों को पढ़ाने में खासी मशक्त करनी पड़ती है और काफी दिक्कतों का सामना भी करना पड़ता है। जैसे एक से अधिक छात्र भाई-बहन होने पर अतरिक्त फोन व इंटरनेट की ज़रूरत सामने आरही है। वहीं बच्चे जब फोन के छोटे स्क्रीन पर घण्टो देख काम करते हैं तो उनकी आंखों पर भी फर्क पड़ सकता है।

शारिक ने कहा कि फीस लेने की छूट स्कूलों ने शिक्षकों की तनख्वाह देने के नाम पर मांगी थी, परन्तु अब वे इसे ट्यूशन फीस के नाम पर मोटी रकम वसूल रहे हैं जो सरा सर गलत है। आम आदमी पार्टी ने मांग की है की पूरे प्रदेश में एक समान न्यूनतम दर पर ट्यूशन फीस सरकार की तरफ फिक्स की जानी चाहिए ताकि कोरोना के चलते लॉक डाउन में अभिभावकों पर कुछ बोझ कम हो सके। स्कूलों को भी स्वतः आगे आकर केवल उतनी रकम का बोझ अभिभावकों पर डालना चाहिए जिससे वे शिक्षकों की तनख्वाह व ज़रूरी खर्च पूरे कर सके। शारिक ने कहा कि इस समय यदि अभिभावकों का उत्पीड़न बन्द न किया गया, तो आम आदमी पार्टी अभिभावकों के अधिकारों की लड़ाई लड़ेगी।

Have something to say? Post your comment
More National News
मामला सेहत मंत्रालय द्वारा नशा मुक्ति गोलियों का, ईडी को हिसाब न देने का
AAP मध्य प्रदेश उपचुनाव समिति 2020 की घोषणा महंगाई कम करने और कृषि बचाने के लिए डीजल और टैक्स घटाएं मोदी और कैप्टन सरकारें - कुलतार सिंह संधवां
मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ‘लीड पोर्टल’ लांच किया, ऑनलाइन मिलेगी शिक्षण सामग्री
राज्य सरकार बिलों में राहत से कन्नी काट रही है
केंद्र सरकार द्वारा जारी होम आइसोलेशन की गाइडलाइन, हू-ब-हू केजरीवाल सरकार की व्यवस्था की नकल
सीएम अरविंद केजरीवाल ने कोरोना योद्धा स्वर्गीय डॉ. असीम गुप्ता के परिवार को 1 करोड़ का चेक सौंपा
CM केजरीवाल और DyCM सिसोदिया ने प्लाज्मा बैंक का किया दौरा, डोनर से मुलाकात कर हाल जाना
दिल्ली सरकार ने आर्थिक सुधार के उपायों का पता लगाने के लिए 12 सदस्यीय विशेषज्ञ समिति का किया गठन
दिल्ली के आईएलबीएस अस्पताल में देश का पहला प्लाज्मा बैंक शुरू - अरविंद केजरीवाल