Wednesday, November 13, 2019
Follow us on
Download Mobile App
Delhi Election

एक्शन में आई ACB लोग रंगे हाथों गिरफ्तार

April 19, 2015 10:52 AM

5 अप्रैल को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन 1031 को रीलॉन्च किए जाने के बाद शनिवार को एंटी करप्शन ब्रांच (एसीबी) ने पहली गिरफ्तारी की। खास बात यह भी है कि इस गिरफ्तारी से 48 घंटे पहले ही एंटी करप्शन ब्रांच के चीफ की बदली की गई थी और पी सी होता के बजाय ट्रैफिक पुलिस के एडिशनल कमिश्नर एस. एस. यादव को एंटी करप्शन ब्रांच का चीफ नियुक्त किया गया था। चीफ के बदलते ही एसीबी तुरंत एक्शन में आई और शनिवार तड़के उसने 3 लोगों को रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।

दिल्ली सरकार के अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार को 1031 हेल्पलाइन पर किसी ने कंप्लेंट की थी कि आजादपुर मंडी में तड़के ट्रकों की एंट्री कराने के लिए कुछ लोग मोटी रिश्वत लेते हैं और उनमें कुछ सरकारी कर्मचारियों की भी मिलीभगत है। शिकायतकर्ता ने यह भी बताया था कि जिन ट्रकों से रिश्वत ली जाती है, उन्हें एक खास एंट्री पास भी दिया जाता है, ताकि बाद में उन्हें कहीं कोई रोके टोके नहीं। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए हेल्पलाइन के सुपरवाइजरों ने शिकायतकर्ता को इस पूरे घटनाक्रम का स्टिंग करने की सलाह दी। शिकायतकर्ता ने अगले ही स्टिंग करके अधिकारियों को भेज दिया, जिसके बाद एसीबी की टीम ने शनिवार तड़के डेढ़ बजे आजादपुर मंडी के एंट्री गेट पर छापा मारकर वहां ट्रकों से एंट्री फीस के रूप में मोटी रिश्वत ले रहे तीन लोगों को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। इनमें एक सरकार द्वारा तैनात सिक्योरिटी इंचार्ज और 2 अन्य कॉन्ट्रैक्ट एंप्लॉयी शामिल हैं, जो ट्रकों की एंट्री कराने के काम में शामिल थे। इनके पास से लाखों रुपये की रकम भी बरामद की गई है। एसीबी ने इस मामले में केस रजिस्टर करके आगे की तफ्तीश शुरू कर दी है।

अधिकारियों को शक है कि इस मामले में कुछ और लोग भी शामिल हो सकते हैं। आरोपियों से पूछताछ कर इसका पता लगाया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि दिल्ली की अन्य मंडियों में भी इसी तरह से रिश्वत का खेल चल रहा है। इस मामले के सामने आने के बाद अब एंटी करप्श ब्रांच की टीमें दूसरी मंडियों में भी रेड डालने की प्लानिंग कर रही है।

 

Have something to say? Post your comment
More Delhi Election News