Sunday, September 15, 2019
Follow us on
Download Mobile App
National

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र से संत रविदास मंदिर की जमीन को डि-नोटिफाई करने का अनुरोध किया

Ina Gupta | September 11, 2019 06:44 PM

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय आवासीय एवं शहरी विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री हरदीप सिंह पुरी को तुगलकाबाद स्थित ढहाये गये संत रविदास मंदिर की जमीन को लेकर बुधवार को एक पत्र लिखा है। मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में श्री हरदीप सिंह पुरी से अनुरोध किया है कि केंद्र जमीन को, जो कि इस समय वन विभाग की है, मंदिर बनाने के लिए डि-नोटिफाई करे।

मुख्यमंत्री ने श्री हरदीप सिंह पुरी से कहाकेंद्र के सहयोग से हम संत रविदास जी के मंदिर को दोबारा बनवाएंगे

 

अपने पत्र में मुख्यमंत्री ने लिखा है, “दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने 10 अगस्त, 2019 को तुगलकाबाद गांव में संत रविदास जी का मंदिर ढहा दिया था। इससे करोड़ों लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंची है। इस मंदिर को ढहाये जाने के बाद संत रविदास जी के अनुयायी दुनिया भर में और दिल्ली में भारी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। संत रविदास जी न केवल दलित समाज के बल्कि सभी समुदायों के श्रद्धेय संत थे। पिछले पांच शताब्दियों से संत रविदास जी की शिक्षाएं हर पीढ़ी को सशक्त बना रही हैं और दिशा दिखा रही हैं।“

श्री केजरीवाल ने अपने पत्र में लिखा है कि हालांकि मंदिर और अन्य संपत्तियां ढहा दी गई हैं लेकिन अब भी मंदिर को दोबारा स्थापित करने की संभावनाएं बाकी हैं। उन्होंने लिखा है, “मुझे बताया गया है कि मंदिर को दोबारा स्थापित करने और इस अन्याय को ठीक करने का अभी भी अवसर है। जनता की भावनाओं के अनुरूप कार्य करने के लिए डीडीए अपने विवेक का इस्तेमाल कर सकती है।“

मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में आगे लिखा है, “चूंकि जमीन पर डीडीए का स्वामित्व है और केवल केंद्र ही जमीन का डिनोटिफिकेशन कर सकता है। ये वन विभाग की जमीन है और डीडीए का नियंत्रण है। जमीन के बदलाव को नोटिफाई करने के लिए दिल्ली सरकार के जरिये डीडीए को पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय को एक प्रस्ताव प्रस्तुत करने की जरूरत होगी।“

मुख्यमंत्री ने श्री हरदीप सिंह पुरी को आश्वासन दिया है कि उनकी सरकार जमीन को डि-नोटिफाई करने के प्रस्ताव पर तय समय सीमा के भीतर काम करेगी। उन्होंने लिखा, “मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि राज्य सरकार तुरंत इस मामले पर करे और इस मामले में तय समय सीमा के भीतर कानून के हिसाब से निर्णय ले।“

मंदिर के दोबारा निर्माण को लेकर उन्होंने लिखा है,“भारत सरकार अगर मंदिर का संचालन करने वाली सोसाइटी को जमीन उपलब्ध करा दे तो आपके सहयोग से दिल्ली सरकार मंदिर का दोबारा निर्माण कराने में खुशी महसूस करेगी।“

इस मामले में दिल्ली के सोशल वेलफेयर मिनिस्टर श्री राजेंद्र पाल गौतम पहले ही डीडीए के वाइस चेयरमैन को पत्र लिख चुके हैं। अपने पत्र में श्री गौतम ने कहा था कि जिस जमीन पर संत रविदास मंदिर था, उस जमीन को डि-नोटिफाई करने का प्रस्ताव डीडीए शुरू करे।

पत्र के अलावा श्री राजेंद्र पाल गौतम ने डीडीए के वाइस चेयरमैन से टेलीफोन पर भी बातचीत की थी लेकिन अब तक उन्हें अपने पत्र का कोई जवाब नहीं मिला है।

 

Have something to say? Post your comment
More National News
मुख्यमंत्री ने पराली और सर्दियों में होने वाले वायु प्रदूषण से निपटने के लिए एक्शन प्लान घोषित किया
सबरीमाला पर सुप्रीम कोर्ट को चुनौती देने वाले अमित शाह जी दलितों की आस्था के मुद्दे पर खामोश क्यों हैं-संजय सिंह
जन संवाद में मोहल्ला क्लिनिक की हो रही है जम कर तारीफ
ईरान के राजदूत ने दिल्ली सचिवालय में मुख्यमंत्री से मुलाकात की
Iran Ambassador calls on the Chief Minister at Delhi Secretariat
डोर स्टेप डिलीवरी को लेकर जनता ने किया केजरीवाल की सराहना
एक ही परिवार के पांचवें मैंबर द्वारा खुदकुशी करना कैप्टन के कर्ज माफी प्रोग्राम के मुंह पर करारा थप्पड़- भगवंत मान
प्रदूषित पानी के मुद्दे पर 'आप' व समाज सेवी संगठनों के वफद ने राज्यपाल को दिया मांग पत्र
डीटीसी के सभी डिपो और टर्मिनल के प्रदूषण जांच केंद्र जनता के लिए खोले गए-श्री कैलाश गहलोत
भाजपा 75 पार होगी तो जनता की गर्दन पर वार होगा– जयहिन्द