Sunday, September 15, 2019
Follow us on
Download Mobile App
National

नशा माफिया से मिले 'पुलिसिया गिरोह' की एस.टी.एफ करे जांच - हरपाल सिंह चीमा

September 03, 2019 11:05 AM
हरपाल सिंह चीमा

 आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब के सीनियर व प्रतिपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने आरोप लगाया है कि पंजाब पुलिस के अंदर 'नशा माफिया' को सरप्रस्ती देने वाले 'पुलिसिया गिरोह' की जांच नशा तस्करी संबंधी गठित विशेष टास्क फोर्स (एसटीएफ) प्रमुख हरप्रीत सिंह सिद्धू को सौंपी जाए।
    पार्टी हैडक्वाटर द्वारा जारी बयान में हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि पिछले दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हुई वीडियो/आडीओज़ में पुलिस विभाग के कुछ इमानदार पुलिस आधिकारियों-कर्मचारियों के खुलासे नजरअन्दाज नहीं किया जा सकता। चीमा ने कहा कि फतेहगढ़ साहिब पुलिस के हैड कांस्टेबल रछपाल सिंह की ओर से सोशल मीडिया पर वर्दी में लाइव हो कर बताया गया है कि बीते 19 अगस्त को मूलेवाल गांव के ही सत्ताधारी सरपंच के भाई हरविन्दर सिंह को नशे की करीब 4200 गोलियां और 150 टीके समेत रंगे हत्थों पकड़ा था। रछपाल सिंह के मुताबिक पहले रिश्वत और राजनैतिक दबाव तले पर्चा न करने की कोशिश की गई, परंतु कानून का पहरेदार होने के नाते उस आरोपी के विरुद्ध पर्चा दर्ज कर लिया गया, तो न केवल विभागीय अफसरों और राजनीतिज्ञों की मिलीभुगत से रछपाल सिंह को बर्खास्त किया गया, बल्कि नशा माफिया की तरफ से जान से मारने की धमकी भी मिलने लगी हैं, जिस कारण रछपाल सिंह को 'सोशल मीडिया' का सहारा लेना पड़ा।

प्रतिपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने नशे के विरुद्ध लड़ रहे इमानदार पुलिस अफसरों-आधिकारियों के हक में उठाई आवाज 


    चीमा ने बताया कि पार्टी प्रधान भगवंत मान द्वारा बनाई गई आम आदमी आर्मी की टीम गगनदीप सिंह चड्ढा के नेतृत्व में रछपाल सिंह के गांव मैण कला (समाना) पहुंची तो बेहद सहमे परिवार में रछपाल सिंह ने सारी गाथा सुनाई और बताया कि वह अपनी अलग-अलग जगह तैनाती के दौरान लाखों-करोड़ों रुपए के नशे और चिट्टा पकड़ चुका है, जिसके बदले विभाग की तरफ से उसे सम्मान भी किया गया, परंतु इसके बदले उसे शाबाशी की जगह, बर्खास्त और जान से मारने की धमकी मिल रही हैं।
    चीमा ने कहा कि यह कोई पहली और आखिरी केस नहीं है, जिस में नशा माफिया के साथ मिला 'पुलिसिया गिरोह' नशे के खिलाफ लड़ रहे विभाग के पुलिस अफसरों और मुलाजिमों को निशाना बना रहा है। चीमा ने इसी तरह खन्ना पुलिस के एक उच्च अधिकारी की तरफ से अपने अधीन अधिकारी को गालीयां निकालने और धमकी देने के मामले समेत ऐसे सभी मसले की जांच एस.टी.एफ के हवाले करने की मांग कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार से की।
    चीमा ने कहा कि ऐसे मामलों ने साबित कर दिया है कि पंजाब में नशा माफिया के लिए सत्ताधारी और पुलिस तंत्र का एक हिस्सा पूरी तरह मिला हुआ है। चीमा ने कहा कि 'आप' की आम आदमी आर्मी मुहिम दौरान राज्य भर में नशे के विरुद्ध आम लोगों को साथ लेकर निर्णयात्मक संघर्ष किया जाएगा।
 

 
 
 
 
Attachments area
 
 
 

 

Have something to say? Post your comment
More National News
मुख्यमंत्री ने पराली और सर्दियों में होने वाले वायु प्रदूषण से निपटने के लिए एक्शन प्लान घोषित किया
सबरीमाला पर सुप्रीम कोर्ट को चुनौती देने वाले अमित शाह जी दलितों की आस्था के मुद्दे पर खामोश क्यों हैं-संजय सिंह
जन संवाद में मोहल्ला क्लिनिक की हो रही है जम कर तारीफ
ईरान के राजदूत ने दिल्ली सचिवालय में मुख्यमंत्री से मुलाकात की
Iran Ambassador calls on the Chief Minister at Delhi Secretariat
डोर स्टेप डिलीवरी को लेकर जनता ने किया केजरीवाल की सराहना
एक ही परिवार के पांचवें मैंबर द्वारा खुदकुशी करना कैप्टन के कर्ज माफी प्रोग्राम के मुंह पर करारा थप्पड़- भगवंत मान
प्रदूषित पानी के मुद्दे पर 'आप' व समाज सेवी संगठनों के वफद ने राज्यपाल को दिया मांग पत्र
डीटीसी के सभी डिपो और टर्मिनल के प्रदूषण जांच केंद्र जनता के लिए खोले गए-श्री कैलाश गहलोत
मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र से संत रविदास मंदिर की जमीन को डि-नोटिफाई करने का अनुरोध किया