Monday, June 01, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
मनीष सिसोदिया ने ऑनलाइन और एसएमएस/आईवीआर आधारित शिक्षा की समीक्षा कीदिल्ली को 5000 करोड़ की मदद करे केंद्र सरकार, ताकि सैलरी का भुगतान हो सके: उपमुख्यमंत्रीसिंघी मछली और बगेरी के शौकीन है शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, के नाम BJPअध्यक्ष बसूलता है रुपया: आपब्याज समेत भुगतान किया जाए, किसानों के गन्ने की अरबों रुपए की बकाया राशि: हरपाल सिंह चीमाकोरोना के मरीज बढ़ रहे, यह चिंता का विषय, लेकिन अभी घबराने जैसी कोई बात नहीं: अरविंद केजरीवालहोम आइसोलेशन में ठीक हुए मरीजों ने कहा, अभिभावक की तरह ख्याल रखती है दिल्ली सरकारकोरोना से डरें नहीं, खुद को बचाना जरूरी: मनीष सिसोदियापंजाब में कृषि क्षेत्र के ट्यूबवेलों पर बिल लागू करने की योजना का ‘आप’ ने किया सख्त विरोध
National

दिल्ली में 200 यूनिट तक बिजली 'फ्री'

August 01, 2019 04:01 PM
— सीएम अरविंद केजरीवाल ने किया तोहफे का ऐलान 
 —फैसला आज से ही लागू
दिल्ली में एक के बाद एक विकास एवं गुड गवर्नेंस के नए नए कीर्तिमान स्थापित करती आम आदमी पार्टी सरकार ने आज देश के इतिहास में जनता को दी जाने वाली सुविधाओं का नया अध्याय जोड़ते हुए एक और बड़ी खुशखबरी दी है, आज के बाद दिल्ली में रहने वाले हर उस परिवार को जो कि 200 यूनिट तक बिजली खपत करता है को बिजली के बिल से ही मुक्ति मिल गई है। जी हां सरकार ने 200 यूनिट तक की बिजली पूरी तरह फ्री कर दी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक प्रेस वार्ता में यह ऐलान करते हुए कहा कि उनकी यह घोषणा आज से ही लागू है।

मुख्यमंत्री के इस ऐलान के तहत 201 यूनिट बिजली की खपत होने पर पूरा 201 युनिट का बिल देना होगा किंतु 201 से 400 यूनिट तक बिजली पर पहले की भांति आधी सब्सिडी मिलेगी। 

मुख्यमंत्री के इस ऐलान के तहत 201 यूनिट बिजली की खपत होने पर पूरा 201 युनिट का बिल देना होगा किंतु 201 से 400 यूनिट तक बिजली पर पहले की भांति आधी सब्सिडी मिलेगी। 
प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछली सरकार के दौरान 200 यूनिट का बिल 2013 में 928 रूपये आता था जो कि पिछले कल तक 622 था किंतु आज से पूरी तरह फ्री हो गया है। इसी प्रकार 250 यूनिट का बिल 2013 में 1250 रूपये आता था और कल तक 800 रूपये था किंतु आज से 252 रूपये हो गया है। पिछली सरकारों के दौर में लोग परेशान होते थे कि बच्चों को पढ़ाएं या बिल भरें। बिजली कंपनियों की फाइनेंसिशियल हालत खराब थी, उनके पास कंपनी चलाने को पैसे नहीं थे। कंपनियां कहती थी कि आज पैसे नहीं चुकाए तो कल ब्लैक आउट हो जाएगा।' पहले की सरकारों की कारगुजारियों का खुलासा करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पहले हर साल बिजली बिल बढ़ाए जाते थे। उन्होंने आंकड़े प्रस्तुत करते हुए कहा कि 2013 में 11.7 करोड़ यूनिट के पावर कट लगे थे जबकि आज केवल 1.7 करोड़ यूनिट पावर कट रह गए हैं जो कि धीरे—धीरे पूरी तरह खत्म हो जाएंगे।  
 
 
 
Have something to say? Post your comment
More National News
मनीष सिसोदिया ने ऑनलाइन और एसएमएस/आईवीआर आधारित शिक्षा की समीक्षा की
दिल्ली को 5000 करोड़ की मदद करे केंद्र सरकार, ताकि सैलरी का भुगतान हो सके: उपमुख्यमंत्री
सिंघी मछली और बगेरी के शौकीन है शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, के नाम BJPअध्यक्ष बसूलता है रुपया: आप
ब्याज समेत भुगतान किया जाए, किसानों के गन्ने की अरबों रुपए की बकाया राशि: हरपाल सिंह चीमा
कोरोना के मरीज बढ़ रहे, यह चिंता का विषय, लेकिन अभी घबराने जैसी कोई बात नहीं: अरविंद केजरीवाल
होम आइसोलेशन में ठीक हुए मरीजों ने कहा, अभिभावक की तरह ख्याल रखती है दिल्ली सरकार
कोरोना से डरें नहीं, खुद को बचाना जरूरी: मनीष सिसोदिया
पंजाब में कृषि क्षेत्र के ट्यूबवेलों पर बिल लागू करने की योजना का ‘आप’ ने किया सख्त विरोध
ट्रेनों में मौत के जिम्मेदारों पर एफआईआर एवं रेल मंत्री से इस्तीफे की मांग को लेकर AAP का विरोध प्रदर्शन
‘दिल्ली के हीरो’ को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का सलाम