Monday, June 24, 2019
Follow us on
Download Mobile App
National

'आप' ने पंजाब पर केंद्रित 11 सूत्री चुनाव मैनीफैस्टो किया जारी

May 09, 2019 11:07 PM

खुशहाल पंजाब के लिए जुमलेबाजी नहीं पक्के इरादे रखते हैं -अमन अरोड़ा
किसानों-मजदूरों, बेरुजगारों के साथ-साथ व्यापारी-कारोबारी हैं केंद्र बिन्दू
पार्टी के राष्ट्रीय मैनीफैस्टो की अपेक्षा अलग है 'आप' पंजाब का चुनाव मनौरथ पत्र

चंडीगढ़, आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने 2019 की लोक सभा चुनाव के लिए एक नई पहल करते पंजाब केंद्रित 11 सूत्री चुनाव मनोरथ पत्र (मैनीफैस्टो) जारी किया है।
    वीरवार यहां प्रैस कान्फ्रैंस के दौरान पार्टी के चुनाव प्रचार समिति के चेयरमैन और विधायक अमन अरोड़ा ने बताया कि पंजाब के लोग यदि 'आप' के उम्मीदवारों को विजयी बना कर संसद में भेजते हैं तो वह 11 सूत्री प्रोगराम को लागू करवाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे, क्योंकि यह 11 सूत्री प्रोगराम 'खुशहाल पंजाब' का रोडमैप है। इस मैनीफैस्टो को जारी करने की रस्म अमन अरोड़ा के साथ पार्टी के लीगल विंग के राज्य प्रधान एडवोकेट जसतेज सिंह, चुनाव प्रचार समिति के मैंबर और प्रवक्ता नील गर्ग और कोर समिति मैंबर और स्टेट मीडिया हैड मनजीत सिंह सिद्धू ने निभाई।
    अमन अरोड़ा ने कहा कि आम आदमी पार्टी पंजाब के आर्थिक और सामाजिक हालात से पूरी तरह वाकिफ है और किसानों-मजदूरों और बेरोजगार नौजवानों के दर्द को अच्छी तरह से महसूस करती है। उन्होंने कहा कि ''हम झूठे और बढा-चढ़ा कर लोग-लोभाऊ वायदे या जुमलेबाजी नहीं करते, परंतु पक्के इरादे ले कर लोगों की कचहरी में उपस्थित हैं।'' दिल्ली में 4 साल की अरविन्द केजरीवाल सरकार और बतौर संसद मैंबर भगवंत मान का 5 सालों का रिपोर्ट कार्ड 'आप' के पक्के और लोग हितैषी इरादों की गवाही भरते हैं। इस लिए विजयी होने के उपरांत 'आप' के संसद मैंबर इन 11 सूत्रों को लागू करने के लिए केंद्र सरकार को मजबूर कर देंगे। 

अमन अरोड़ा ने कहा कि आम आदमी पार्टी पंजाब के आर्थिक और सामाजिक हालात से पूरी तरह वाकिफ है और किसानों-मजदूरों और बेरोजगार नौजवानों के दर्द को अच्छी तरह से महसूस करती है। उन्होंने कहा कि ''हम झूठे और बढा-चढ़ा कर लोग-लोभाऊ वायदे या जुमलेबाजी नहीं करते, परंतु पक्के इरादे ले कर लोगों की कचहरी में उपस्थित हैं।

- स्वामीनाथन कमिशन (लागत मूल्य का 1.5 गुणा) की रिपोर्ट लागू करवाने के लिए केंद्र सरकार को मजबूर करेंगे।
-पंजाब और एग्रो बेसड इंडस्ट्री लाकर किसानों की आमदन बढ़ाने और आत्म-हत्याएं रोकने का यत्न करेंगे।
-पहाड़ी राज्यों की तर्ज पर पंजाब की इंडस्ट्री के लिए ''एक देश-एक टैक्स'' के अंतर्गत स्पैशल पैकेज के लिए केंद्र सरकार पर दबाव बनाऐंगे।
-अमृतसर से लेकर कोलकात्ता तक का फ्रेट कौरीडोर जो कि केंद्र सरकार ने ठंडे बस्तो में डाला हुआ है, उसे बनाना यकीनी बनाया जायेगा।
-नौजवानों को रोजगार मुहैया करवाने के लिए पंजाब में बड़ी पब्लिक सैक्टर अंडरटेकिंग (पीएसयू) इंडस्ट्री लाने के लिए यत्न करेंगे।
-कैंसर, काला पीलिया जैसी बीमारियों के इलाज के लिए पंजाब में एआईआईएमएस और पीजीआई की तर्ज पर ओर बड़े सरकारी हस्पताल लेकर आने।
- प्रौफेशनल शिक्षा को प्रफुलित करे के लिए नई आईआईएम और आईआईटी जैसे उच्च दर्जे के शिक्षा संस्थाएं पंजाब के लिए मंजूर करवाना।
-पंजाब के पानियों, वातावरण और मिट्टी को बचाने के लिए स्पैशल पैकेज लेकर आऐंगे।
-पंजाब की खेती को संकट से उभारने के लिए केंद्र सरकार से पंजाब के लिए स्पैशल पैकेज पास करवाऐंगे।
-एमपी लैड का 2 तिहाई फंड लोगों की सलाह के साथ इलाके की सेहत और शिक्षा सहूलतों को बढिय़ा बनाने के लिए खर्च किया जाएगा और एक-एक पैसे का हिसाब हर साल लोगों के सामने रखा जाएगा।
    अमन अरोड़ा ने बताया कि दिल्ली में केजरीवाल की सरकार ने 100 करोड़ की विशेष राशि रख कर किसानों को स्वामीनाथन कमिशन की सिफारिशों के बराबर प्रति क्विंटल 2616 रुपए दाम यकीनी बना दिया है जबकि पंजाब और हरियाणा के किसान एम.एस.पी मुताबिक प्रति क्विंटल 1840 रुपए भी पूरे नहीं ले रहे। मोदी सरकार स्वामीनाथन के वायदे से भाग गई, नतीज के तौर पर किसानों-मजदूरों की हालत बद से बदतर हो गई।
    उन्होंने दोष लगाया कि हरसिमरत कौर बादल ने फूड प्रौसेसिंग मंत्री होने के बावजूद राज्य के लिए कोई फूड प्रौसेसिंग इंडस्ट्री नहीं लाई, जबकि पंजाब के किसान-मजदूर, नौजवान, व्यापारी-कारोबारी और अर्थ व्यवस्था का भविष्य ही खेती पर आधारित फूड प्रौसेसिंग इंडस्ट्री पर निर्भर हो गया है।
    अमन अरोड़ा ने बताया कि पहाड़ी राज्यों को विशेष पैकेज ने पंजाब की इंडस्ट्री तबाह कर दी है। 20 हजार यूनिट हिमाचल, हरियाणा और जम्मू -कश्मीर में पलायन कर गए।
    अमन अरोड़ा ने कहा कि नोटबन्दी और जीएसटी ने हर स्तर का व्यापारी-कारोबारी ऋणी कर दिया है। उन्होंने कहा कि वातावरण प्रदूषण का मुद्दा बहुत बड़ा मुद्दा है, हवा-पानी जहरीला होने के साथ जीवन ही दाव पर लग गया है।
    अमन अरोड़ा ने कहा कि कांग्रेस की भारी बहुमत वाली सरकार होने के बावजूद कैप्टन-जाखड़ ने पंजाब पर केंद्रित मैनीफैस्टो नहीं दिया। इसी तरह अकाली दल बादल भी पंजाब पर आधारित चुनाव वायदे मैनीफैस्टो के रूप में पेश करने से भाग गया है।

Have something to say? Post your comment
More National News
बोल रहे है 'आप' विधायक के काम
'आप' के बिजली आंदोलन का 24 जून को होगा जिला स्तर से अगाज
AAP के 10 दिनों के जनमत संग्रह में महिलाओं के लिए मुफ्त यात्रा की योजना के पक्ष में 90.8% लोग: गोपाल राय
नगर निगम चुनाव में AAP को हराने के लिए बीजेपी-कांग्रेस ने किया गठबंधन
शीला दीक्षित का शासन होता तो बिजली में ही लुट जाती 'दिल्ली'
दलित विद्यार्थियों का भविष्य तबाह करने पर तुले कैप्टन और मोदी की सरकारें -हरपाल सिंह चीमा
बढ़ौतरी की गई बिजली दरों को कम करने की चेतावनी के साथ 'आप' ने बिजली आंदोलन-2 शुरु करने का किया ऐलान
दिल्ली बोली : ऐसा सिर्फ अरविंद ही सोच और कर सकते हैं
देवली विधानसभा के लोगों को चार महीने में मिलने लगेगा सोनिया विहार का पानी : अरविंद केजरीवाल
सत्ता पाने के लिए नीचता की सारी हदें पार कर के गौतम गंभीर देश की संसद में जाना चाहते हैं लानत है ऐसे व्यक्ति पर :मनीष सिसोदिया