Wednesday, July 17, 2019
Follow us on
Download Mobile App
National

किसान आत्महत्याओं और नशों से होती मौतों के मामले में हद से ज्यादा निर्दई हुए कैप्टन और मोदी -आप

March 27, 2019 07:45 PM

चंडीगढ़ आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने पिछले कई दिनों से लगातार हो रही किसान, खेत-मजदूर आत्महत्याओं और नशे की ओवर डोज से नौजवानों की मौत पर गहरे दुख का व्यक्त किया इस त्रासदी के लिए कैप्टन अमरिन्दर सिंह और नरेंद्र मोदी सरकारों को जिम्मेदार ठहराया है।

    'आप' हैडक्वाटर द्वारा जारी बयान में पार्टी के किसान विंग के प्रधान और विधायक कुलतार सिंह संधवां और मुख्य प्रवक्ता और विधायक प्रो. बलजिन्दर कौर ने दोष लगाया कि चुनाव के अवसर पर बड़े-बड़े वायदे कर सत्ता में आए कैप्टन अमरिन्दर सिंह और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी किसानों, खेत-मजदूरों और नौजवानों के प्रति हद से ज्यादा निर्दई साबित हुए हैं, ऐसे लग रहा है जैसे इन की संवेदना ही मर गई हो।
    'आप' नेताओं ने कहा कि कोई भी दिन ऐसा नहीं गुजर रहा जिस दिन अखबारों और खबरों में किसान, खेत-मजदूरों या नशे की ओवर डोज के साथ किसी न किसी नौजवान की मौत की खबर न प्रकाशित होती हो, परंतु ओर भी दुख की बात यह है कि सरकार का कोई अधिकारी या नुमाइंदा इन पीडित परिवारों के साथ दुख व्यक्त करना भी जरूरी नहीं समझते, कारण और हालातों की दसतावेजी जांच करवाना तो दूर की बात है। 

आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने पिछले कई दिनों से लगातार हो रही किसान, खेत-मजदूर आत्महत्याओं और नशे की ओवर डोज से नौजवानों की मौत पर गहरे दुख का व्यक्त किया इस त्रासदी के लिए कैप्टन अमरिन्दर सिंह और नरेंद्र मोदी सरकारों को जिम्मेदार ठहराया है।

कुलतार सिंह संधवां ने बताया कि बुधवार को फरीदकोट के गांव मिड्डूमान के 45 वर्षिय किसान जगसीर सिंह और मानसा के गांव रल्ला के खेत मजदूर जंटा सिंह (45 वर्ष) की तरफ से आत्महत्या की रिपोर्टें मीडिया में प्रकाशित हुई है। किसान और खेत मजदूरों की तरफ से खुदकुशी का एक कारण कर्ज था।
    तरनतारन के ही गांव जीऊबाला के 40 वर्षिया सुखविन्दर सिंह की नशे के टीके के ओवर डोज से मौत हो गई जबकि बीते दिन भी नौशहरा बहादुर (गुरदासपुर) के सन्दीप सिंह सैनी, गढ़दीवाला (फिरोजपुर) के गुरप्रीत सिंह और गोइन्दवाल साहिब के लखविन्दर लक्खी की नशे की ओवर डोज के साथ हुए मौत के बारे में रिपोर्टें जनतक हुई थी।
    प्रो. बलजिन्दर कौर ने कहा कि किसान, खेत-मजदूर आत्महत्याओं और नशे के साथ हुई मौतों का उपलब्ध आंकड़ा भी मीडिया रिपोर्टों या स्थानीय लोगों के पास से मिली जानकारी तक ही सीमित है, जबकि जमीनी स्तर की हकीकत बहुत ही कड़वी और निराशाजनक है।
    'आप' नेताओं ने जहां कांग्रेस की कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को वायदा खिलाफी करने के बदले आगामी चुनावों में इनको सबक सिखाने की अपील की, वहीं किसान खेत मजदूरों और नौजवानों से अपील की है कि वह कर्ज या बेरोजगारी से परेशान हो कर कोई भी गलत कदम न उठाएं और आम आदमी पार्टी का साथ दें।
    'आप' नेताओं ने कहा कि खेती संकट के मद्देनजर यदि केजरीवाल सरकार दिल्ली के किसानों के लिए स्वामीनाथन सिफारशों के आधार पर इस सीजन से गेहूं का मूल्य 2616 प्रति क्विंटल और धान की फसल का प्रति क्विंटल 2667 रुपए दे सकती है तो पंजाब में कैप्टन अमरिन्दर सिंह ऐसा क्यों नहीं कर सकते?
    'आप' नेताओं ने लोगों से अपील की है कि वह स्वामीनाथन सिफारशों को लागू करने से भागी अकाली -भाजपा गठजोड वाली मोदी सरकार को वायदा खिलाफी करने की सजा इन चुनाव में जरूर दें।
  
 

Have something to say? Post your comment
More National News
बोल रहे है 'आप' विधायक के काम
'आप' के बिजली आंदोलन का 24 जून को होगा जिला स्तर से अगाज
AAP के 10 दिनों के जनमत संग्रह में महिलाओं के लिए मुफ्त यात्रा की योजना के पक्ष में 90.8% लोग: गोपाल राय
नगर निगम चुनाव में AAP को हराने के लिए बीजेपी-कांग्रेस ने किया गठबंधन
शीला दीक्षित का शासन होता तो बिजली में ही लुट जाती 'दिल्ली'
दलित विद्यार्थियों का भविष्य तबाह करने पर तुले कैप्टन और मोदी की सरकारें -हरपाल सिंह चीमा
बढ़ौतरी की गई बिजली दरों को कम करने की चेतावनी के साथ 'आप' ने बिजली आंदोलन-2 शुरु करने का किया ऐलान
दिल्ली बोली : ऐसा सिर्फ अरविंद ही सोच और कर सकते हैं
देवली विधानसभा के लोगों को चार महीने में मिलने लगेगा सोनिया विहार का पानी : अरविंद केजरीवाल
सत्ता पाने के लिए नीचता की सारी हदें पार कर के गौतम गंभीर देश की संसद में जाना चाहते हैं लानत है ऐसे व्यक्ति पर :मनीष सिसोदिया