Wednesday, May 22, 2019
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
सत्ता पाने के लिए नीचता की सारी हदें पार कर के गौतम गंभीर देश की संसद में जाना चाहते हैं लानत है ऐसे व्यक्ति पर :मनीष सिसोदियाकिसानों को साढ़े 4 रुपए का लोलीपोप देकर गुमराह न करें कैप्टन -भगवंत मान'आप' ने पंजाब पर केंद्रित 11 सूत्री चुनाव मैनीफैस्टो किया जारीबादलों को विरोधी पक्ष की कुर्सी पर बैठाने की जल्दबाजी में हैं कैप्टन अमरिन्दर - भगवंत मानजजिया कर का विरोध करने वाले खुद वसूल रहे जजिया कर:जयहिंदमैट्रो स्टेशन पर पहुंचे पंडित नवीन जयहिंद, किया प्रचार सरासर धक्केशाही है किसानों की मुआवजा राशि से टीडीएस काटना -भगवंत मानसार्वजनिक-निजी भागीदारी: रेलवे स्टेशनों के विकास पर भारी
National

अगर इरादे मज़बूत और हौसले जानदार हों तो कोई भी कार्य असंभव नहीं

March 13, 2019 03:36 PM
तृप्ति शुक्ला
अगर इरादे मज़बूत और हौसले जानदार हों तो कोई भी कार्य असंभव नहीं है। यह चरितार्थ किया है तृप्ति शुक्ला ने जिन्होंने अपनी कड़ी मेहनत और मज़बूत इरादों के दम पर अपने लिए एक अलग मकाम हासिल किया है, यह उनकी दृढ़ इच्छा शक्ति का ही परिणाम है कि उन्होंने न सिर्फ अभिनय की दुनिया में बल्कि महिला आत्म सुरक्षा के क्षेत्र में भी एक चिर परिचित नाम बना लिया है। 

तृप्ति बहुमुखी प्रतिभा की धनि हैं। हमेशा हंसते रहना और मुश्किल से मुश्किल हालात का निडरता से सामना करना उनकी शख्सियत का अहम हिस्सा बन चुका है। वह अभिनय के छेत्र में भी अपनी अलग पहचान बनाने के लिए आतुर हैं, इसी लिए वह अपने स्क्रिप्ट का चुनाव बड़ी समझदारी से करती हैं।

तृप्ति से पहली मुलाक़ात में शायद ही कोई कह पाए कि यह खूबसूरत नन्ही मासूम सी दिखने वाली लड़की अपने अंदर फौलाद का जिगर रखती है। उनका मानना है कि एक स्वास्थ्य  ही इंसान की पूंजी है। तो बस यूँ ही शुरुआत हुई अपने आपको स्वस्थ रखने से फिर आत्म रक्षा की, और फिर लगे हाथों तृप्ति शुक्ला ने कई सारे मार्शल आर्ट और आत्म रक्षा की तकनीक न सिर्फ सीख डालीं बल्कि उनमें निपुणता भी हासिल कर ली। इसी क्रम में योगा, किक बॉक्सिंग, पारकुर, कराव मांगा की बाकायदा तालीम हासिल की है, वह कहती हैं कि कोई भी हुनर या इल्म किस काम का अगर उसका फायदा दूसरों तक न पहुंचे। इसी भावना से प्रेरित हो कर दूसरी महिलाओं को आत्म रक्षा की ट्रेनिंग देनी शुरू की थी। फिर धीरे-धीरे एक दिए की लौ ने हज़ारों  दिए रोशन कर दिए। उनके द्वारा  सैकड़ों कॉर्पोरेट, स्वयं सेवी संस्थाएं, एवं स्कूल और कॉलेज अब तक आत्म रक्षा की ट्रेनिंग पा चुके हैं। वह मुस्कुराते हुए कहती हैं कि यह तो सिर्फ अभी एक शुरुआत है।
 
तृप्ति बहुमुखी प्रतिभा की धनि हैं। हमेशा हंसते रहना और मुश्किल से मुश्किल हालात का निडरता से सामना करना उनकी शख्सियत का अहम हिस्सा बन चुका है। वह अभिनय के छेत्र में भी अपनी अलग पहचान बनाने के लिए आतुर हैं, इसी लिए वह अपने स्क्रिप्ट का चुनाव बड़ी समझदारी से करती हैं। उन्होंने अब तक कई दिग्गज निर्देशकों के साथ काम किया है जिनमें विक्रम भट्ट, शिवोम नायर, बी.पी सिंह, एवं सिद्धार्थ रांदेरिया का नाम शामिल है। इस वर्ष उनकी एक और भी महत्वकांशी फिल्म रिलीज़ होने वाली है। वो बताती हैं कि उन्होंने कुछ अलग करने के लिए बहुत कोशिश और साहस से काम किया है, उम्मीद है दर्शक उन्हें ज़रूर सराहेंगे।
 
हैं  और  भी  दुनिया  में  सुखनवर  बहुत अच्छे
कहते हैं कि गालिब का है अन्दाज-ए-बयां और
 
कुछ ऐसी ही विषेशता है जो तृप्ति शुक्ला को औरों से अलग बनाती है। वह अपने अंदाज़े-बयाँ से चीज़ों को एकदम सरलता से पेश करने में माहिर हैं, यही वजह है कि उनकी सिखाई हुई चीज़ें लोगों के ज़हन में आसानी से घर कर जाती हैं, क्योंकि किसी भी इंसान की पहचान उसके काम से ही  होती है, इसलिए वो आगे बात चीत में कहती हैं कि सच्ची लगन और उसे करने का तरीक़ा ही हमें औरों से अलग पहचान देता है।
 
नेक नियति और कुछ कर दिखने का जज़्बा  ही है जो तृप्ति को अच्छा और अच्छा करने के लिए प्रेरित करता है, वह महिला सुरक्षा के क्षेत्र में बहुत कुछ करना चाहती हैं, उनका सपना है कि मैं भारत की हर महिला तक पहुंच सकूँ, क्योंकि जब तक महिला ख़ुदको सुरक्षित महसूस नहीं करेगी तब तक किसी भी राष्ट्र का विकास होना असंभव है।
 
लेखक: मुकर्रम ख़ान (मुम्बई)
 
 
 
 
 
Have something to say? Post your comment
More National News
सत्ता पाने के लिए नीचता की सारी हदें पार कर के गौतम गंभीर देश की संसद में जाना चाहते हैं लानत है ऐसे व्यक्ति पर :मनीष सिसोदिया
किसानों को साढ़े 4 रुपए का लोलीपोप देकर गुमराह न करें कैप्टन -भगवंत मान
'आप' ने पंजाब पर केंद्रित 11 सूत्री चुनाव मैनीफैस्टो किया जारी
बादलों को विरोधी पक्ष की कुर्सी पर बैठाने की जल्दबाजी में हैं कैप्टन अमरिन्दर - भगवंत मान
जजिया कर का विरोध करने वाले खुद वसूल रहे जजिया कर:जयहिंद
मैट्रो स्टेशन पर पहुंचे पंडित नवीन जयहिंद, किया प्रचार
सरासर धक्केशाही है किसानों की मुआवजा राशि से टीडीएस काटना -भगवंत मान
सार्वजनिक-निजी भागीदारी: रेलवे स्टेशनों के विकास पर भारी
ग्राम उदय से भारत उदय का 'ढोल' पीट कर अपना प्रचार कर गए 'मोदी'
बेरंग दाने के नाम पर कटौती का फैसला तुरंत वापस ले मोदी सरकार-भगवंत मान