Sunday, December 16, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
अरविन्द केजरीवाल ने अपनी तन्खावाह समेत दिए 5 लाख रूपये – जयहिन्दभारत को दुनिया का नंबर एक राष्ट्र बनाना मेरा लक्ष्य : केजरीवाल सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षरआप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरीकिसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तारअनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमतिबेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौर
National

शिवराज सरकार के हर षड़यंत्र का मुंहतोड़ जवाब देगी आम आदमी पार्टी

August 21, 2018 08:00 PM

दिल्ली की तर्ज पर मध्यप्रदेश में भी जारी है ‘आप’ के खिलाफ दमन चक्र

भोपाल, मध्यप्रदेश में भी आम आदमी पार्टी कार्यकतार्ओं के खिलाफ भाजपा सरकार का दमन चक्र जारी है। प्रदेश सरकार आम आदमी पार्टी की बढ़ती लोकप्रियता को पचा नहीं पा रही है लिहाजा यहां भी दिल्ली की तर्ज पर ‘आप’ के खिलाफ षड़यंत्रों का सिलसिला शुरू हो गया है। आम आदमी पार्टी ने शिवराज सरकार के हर जुल्म का मुंहतोड़ जवाब देने की बात कही है। ‘आप’ के खिलाफ ताजा मामला है आम आदमी पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष अमित •ाटनागर, प्रदेश संगठन सचिव युवराज सिंह, प्रदेश संगठन सचिव मुकेश जायसवाल और नरेला विधानसभा प्रभारी  रेहान जाफरी को बिजली आंदोलन के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया जाना। सनद रहे कि सभी आप नेताओं पर 2017 के बिजली आंदोलन के दौरान विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया गया, आप नेताओं को पुलिस ने मामले के निराकरण के लिए थाने बुलाया किंतु अपने बयान दर्ज कराने थाने पहुंचे आप नेताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर अदालत में पेश कर दिया, जहां से माननीय न्यायाधीश ने उन्हें मामले की नजाकत को समझते हुए जमानत पर रिहा कर दिया। 

पुलिस ने बिजली आंदोलन के दौरान अमित भटनागर, युवराज सिंह, मुकेश जायसवाल, रेहान जाफरी समेत अन्य के विरुद्ध भारतीय दंड विधान की धारा 353, धारा 332, धारा 148, धारा 149 और 188 के तहत मामला दर्ज किया था। 

पुलिस ने बिजली आंदोलन के दौरान अमित भटनागर, युवराज सिंह, मुकेश जायसवाल, रेहान जाफरी समेत अन्य के विरुद्ध भारतीय दंड विधान की धारा 353, धारा 332, धारा 148, धारा 149 और 188 के तहत मामला दर्ज किया था। इन्हीं मामलों में आज  अचानक गिरफ्तारी की गई। गौरतलब है कि नवंबर 2017 में हुए बिजली आंदोलन के दौरान पुलिस ने ‘आप’ के प्रदेश अध्यक्ष आलोक अग्रवाल और प्रदेश संगठन मंत्री पंकज सिंह को उसी दौरान गिरफ्तार किया था और उन्हें 17 दिनों तक जेल में रखा।

आम आदमी ने इस घटना को पार्टी की बढ़ती लोकप्रियता कारण शिवराज सरकार की बौखलाहट बताया है. पार्टी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि शिवराज सरकार अलोकतांत्रिक तरीके अपना कर जनता की सच की आवाज को कुचलना चाहती है। ताजा गिरफ्तारी को राजनीतिक षडय़ंत्र करार देते हुए पार्टी प्रवक्ता अमित भटनागर ने कहा कि आम आदमी पार्टी आंदोलनों की पार्टी है और हम इस तरह से डरने वालों में नहीं हैं। उन्होंने कहा कि अपना राजनीतिक जनाधार खिसकता देख शिवराज सिंह राजनीतिक षडय़ंत्र के तहत आम आदमी पार्टी को कमजोर करने की साजिश रच रहे हैं। बिजली की समस्याओं को लेकर किए गए प्रदर्शन में इससे पहले भी भाजपा सरकार ने हमारे प्रदेश अध्यक्ष और प्रदेश संगठन मंत्री को 17 दिन जेल में रखा था और आज फिर चार नेताओं को जेल पहुंचाने की साजिश रची गई। उन्होंने कहा कि हमें न्याय व्यवस्था पर भरोसा है और आज फिर जमानत देखकर अदालत ने भी आम आदमी पार्टी की सच्चाई पर मोहर लगाई है।

Have something to say? Post your comment
More National News
अरविन्द केजरीवाल ने अपनी तन्खावाह समेत दिए 5 लाख रूपये – जयहिन्द
भारत को दुनिया का नंबर एक राष्ट्र बनाना मेरा लक्ष्य : केजरीवाल 
भाजपा सांसद का सिग्नेचर ब्रिज उद्घाटन समारोह में हंगामा
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षर
आप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट
महिलाओं ने लोकसभा चुनावों में 'आप' को वोट देने का किया आह्वान
नगर-निगम के स्कूलों की बुरी हालत पर भाजपा को घेरा
28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरी
किसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तार
अनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमति