Saturday, December 15, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
अरविन्द केजरीवाल ने अपनी तन्खावाह समेत दिए 5 लाख रूपये – जयहिन्दभारत को दुनिया का नंबर एक राष्ट्र बनाना मेरा लक्ष्य : केजरीवाल सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षरआप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरीकिसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तारअनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमतिबेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौर
National

पानी की चपेट में आकर बर्बाद हुई फसलों के लिए सरकार जिम्मेदार, सौ प्रतिश्त मुआवजा दे कैप्टन -आप

July 23, 2018 05:19 PM
डा. बलबीर सिंह

चंडीगढ़,  मानसून की शुरुआती बरसातों के साथ पंजाब में पानी की चपेट में आई हजारों एकड़ फसल की बर्बादी के लिए पंजाब की कांग्रेसी और अकाली-भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने प्रभावित किसानों के नुक्सान के लिए पूरे 100 प्रतिश्त मुआवजे की मांग की है।

    'आप' द्वारा जारी प्रैस बयान में पार्टी के सूबा सह-प्रधान डा. बलबीर सिंह और किसान विंग के प्रधान दलजीत सिंह सदरपुरा ने कहा कि अकाली-भाजपा और कांग्रेस की सरकारों ने पानी के सभी कुदरती बहाव खत्म कर दिए है। लोक निर्माण और मंडी बोर्ड की ओर से गांवों के कच्चे रास्तों पर लिंक सडक़ें बनाते समय पानी के प्राकृीतक बहाव पर पुलियां नहीं बनाईं गई। इस तकनीकी काम में सत्ताधारी गुटों के स्थानीय राजनैतिक नेताओं की ओर से निजी दुश्मनीयां निकालीं गई और अपने रसूख का दबा कर दुरुपयोग किया गया, जिसका क्षतिपूर्ति आज किसान और गांवों शहरों के लोग भुगत रहे हैं। 

'आप' द्वारा जारी प्रैस बयान में पार्टी के सूबा सह-प्रधान डा. बलबीर सिंह और किसान विंग के प्रधान दलजीत सिंह सदरपुरा ने कहा कि अकाली-भाजपा और कांग्रेस की सरकारों ने पानी के सभी कुदरती बहाव खत्म कर दिए है। लोक निर्माण और मंडी बोर्ड की ओर से गांवों के कच्चे रास्तों पर लिंक सडक़ें बनाते समय पानी के प्राकृीतक बहाव पर पुलियां नहीं बनाईं गई।

 'आप' नेताओं ने आरोप लगाया कि अकाली-भाजपा और कांग्रेस की सरकारों के दौरान बरसाती नदियां-नालों के कुदरती बहाव पर नाजायज कब्जे और नाजायज कालोनियों की भ्रमार है। इस विरोधी रुझान में स्थानीय सरकारें, शहरी विकास और टाऊन प्लानिंग विभागों की  ओर से बिल्डरों, डीलरों और राजनीतिज्ञों के साथ मिलकर बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार किया गया, जिस की कीमत आज किसान और शहरी बराबर चुका रहे हैं।
    डा. बलबीर सिंह और सदरपुरा ने सिंचाई और ड्रेनज विभाग पर संगीन आरोप लगाते हुए कहा कि हर साल करोड़ों रुपए के बजट के बावजूद न नहरों की सफाई होती है और न ड्रेनों की, नतीजे के तौर पर बरसात के मौके नहरों और ड्रेनें भी किसानों का उल्टा नुक्सान कर रही हैं। सत्ताधारी और अफसर कागजी सफाई में सरकारी खजाने को करोड़ों -अरबों का चूना लगा रहे हैं और क्षतिपूर्ति जनता भुगत रही है। डा. बलबीर सिंह ने प्रभावित इलाकों में अभी तक विशेष गिरदावरी न करवाने का भी नोटिस लिया। 'आप' ने मांग की है कि लिंक सडक़ों का नए सिरे से सर्वेक्षण करवा कर प्राकृीतक बहाव पर पुलियां बनाई जाएं, नहरों और ड्रेन मानसून सजन से पहले सफाई के लिए मशीनों की जगह मनरेगा लेबर का प्रयोग यकीनी बनाया जाए जिससे घपले की गुंजाईश कम हो जाए। सैटालाईट का प्रयोग से पानी के कुदरती बहावों से नाजायज कब्जे सख्ती के साथ हटाए जाएं जिससे भविष्य में नुक्सान की गुंजाईश न रहे।

Have something to say? Post your comment
More National News
अरविन्द केजरीवाल ने अपनी तन्खावाह समेत दिए 5 लाख रूपये – जयहिन्द
भारत को दुनिया का नंबर एक राष्ट्र बनाना मेरा लक्ष्य : केजरीवाल 
भाजपा सांसद का सिग्नेचर ब्रिज उद्घाटन समारोह में हंगामा
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षर
आप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट
महिलाओं ने लोकसभा चुनावों में 'आप' को वोट देने का किया आह्वान
नगर-निगम के स्कूलों की बुरी हालत पर भाजपा को घेरा
28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरी
किसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तार
अनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमति