Friday, July 20, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
प्रोजेक्ट रिपोर्ट 1 को बदलकर बिना आधार , बिना कारण प्रोजेक्ट UIT कोटा को हस्तानांतरित कर दिया गयापंजाब : जोधपुर के नजरबन्दों के साथ कांग्रेस की ओर से की गई बेइन्साफी पर माफी मांगें कैप्टन : आपपंजाब : नशे के तांडव विरुद्ध 2 जुलाई को मुख्यमंत्री निवास के समक्ष रोष मार्च व धरना देगी 'आप'लीडरशिप मध्य प्रदेश : क्या एमबी पॉवर से सरकार के गैरकानूनी करार का सवाल उठाएंगे अजय सिंह: आलोक अग्रवालराजस्थान : भ्रष्टाचार के गढ़ पर आप का प्रदर्शन, पीड़ित भी आए समर्थन मेंदिल्ली : दिल्ली में री-डवलपमेंट के नाम हजारों पेड़ो को काटने के षड्यंत्र में भाजपा और कॉंग्रेस दोनों शामिल : AAP  रमन के दमन का पुरजोर विरोध 'आप' द्वारा विधायक चीमा को लीगल सैल और सदरपुरा को किसान विंग का प्रांतीय अध्यक्ष किया नियुक्त 
National

किसान आत्म हत्या नहीं कर रहे उनकी हत्याएं हो रही हैं : आप

June 21, 2018 11:19 PM
जयपुर में संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस

जयपुर। आम आदमी पार्टी (आप ) ने राजस्थान में किसानों द्वारा आत्महत्या करने की बढ़ती घटनाओं पर कड़ा आक्रोश जताया है। पार्टी ने कहा है कि ये आत्महत्या नहीं, हत्या है। इसके लिए सत्ता में बैठे नीतिकारों, अफसरों और बैंक अधिकारियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज होना चाहिए। पार्टी ने किसानों को उनका हक दिलाने के लिए प्रदेशभर में किसान न्याय यात्रा आयोजित करने की भी घोषणा की है। 

आम आदमी पार्टी के प्रदेश समन्वयक एवं प्रदेश प्रवक्ता देवेंद्र शास्त्री, किसान नेता एवं पार्टी के सूरतगढ़ से उम्मीदवार सत्यप्रकाश सिहाग तथा किसान नेता राजू जाट ने गुरुवार को जयपुर में संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस की। पार्टी के प्रदेश समन्वयक देवेंद्र शास्त्री ने बताया कि पार्टी की ओर से जुलाई में किसान न्याय यात्रा का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान प्रदेश के चारों कोनों से किसान नेताओं के जत्थे रवाना होंगे और गांव—गांव जाकर भाजपा सरकार और प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस की किसान विरोधी नीतियों की जानकारी देंगे। इस दौरान 50 हजार से अधिक किसानों से प्रत्यक्ष तौर पर मुलाकात कर एक सुझाव पत्र भी तैयार किया जाएगा। इस सुझाव पत्र को पार्टी अपने विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र में शामिल करेगी और सत्ता में आने के बाद इसे दिल्ली की तर्ज पर अक्षरश: लागू करेगी।
शास्त्री ने आरोप लगाया कि प्रदेश में किसान सरकार की किसान विरोधी नीतियों के कारण आत्महत्या करने जैसा कदम उठा रहे है। इतना होने के बाद भी सरकार किसानों की समस्याओं को दूर करने की कोई प्रयास नहीं कर रही है। ज्यादातर आत्महत्याएं मुख्यमंत्री के गृह संभाग में हो रही है जो दुर्भाग्यपूर्ण है।
दो महीने में आठ किसानों ने आत्महत्या की 

पार्टी के प्रदेश समन्वयक देवेंद्र शास्त्री ने बताया कि पार्टी की ओर से जुलाई में किसान न्याय यात्रा का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान प्रदेश के चारों कोनों से किसान नेताओं के जत्थे रवाना होंगे और गांव—गांव जाकर भाजपा सरकार और प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस की किसान विरोधी नीतियों की जानकारी देंगे। 

 आप की किसान नेता सत्यप्रकाश सिहाग ने बताया कि राजस्थान में दो महीने में आठ किसानों ने आत्महत्या की हैं। सरकार की दोषपूर्ण नीतियों के कारण इन्होंने ये कदम उठाया है। पार्टी इन किसानों के घर पर जाएगी और शोक संतप्त परिवारवालों को ढांढस बंधाएगी।
उन्होंने कहा कि समर्थन मूल्य पर ​फसलों की खरीद नहीं होने और मंहगाई ने किसान की कमर तोड़ दी। किसानों पर भारी कर्ज चढ़ रहा है। सरकार ने 50 हजार रुपए कर्जमाफी की जो घोषणा की है वे भी केवल दिखावटी है। इस योजना में अनावश्यक नियम—कायदों से किसान को लाभ नहीं मिल पा रहा है। चुनावी वर्ष में कर्जमाफी की घोषणा करना केवल किसानों को गुमराह करने वाला है।
सिहाग ने बताया कि ​सरकार ने राजस्थान में इस साल हाड़ौती संभाग में 75 से 80 लाख मैट्रिक टन लहसुन होने का अंदाजा है। सरकार ने इसमें से 15 लाख मैट्रिक टन लहसुन बाजार आक्षेप योजना में समर्थन मूल्य पर खरीदने की घोषणा की। अफसोस की बात है कि अब तक केवल पांच लाख मैट्रिक टन लहसुन ही इस योजना में 3271 रुपए प्रति क्विंटल की दर पर खरीदा गया। यह राशि भी बहुत कम है। बाजार में किसानों को उनकी फसल की लागत के अनुसार भी मूल्य नहीं रहा है।
उन्होंने ने कहा कि किसानों ने खाद—बीज आदि का इंतजाम कर्ज लेकर किया था। फसल की उचित कीमत नहीं मिलने से कर्ज चुका पाने में असक्षम है। ऐसे में वे आत्महत्या जैसा कदम उठाने को मजबूर हो रहे हैं। सिहाग ने बताया कि कोटा में दो महीने में 6 और श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ में एक—​एक किसान ने आत्महत्या की है। उन्होंने कहा कि जिम्मेदार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज होना चाहिए।
पार्टी के एक और वरिष्ठ किसान नेता राजू जाट ने बताया कि पार्टी की किसान सेल हमेशा से ही सक्रिय रही है। पिछले दिनों गांव बंद आंदोलन में भी पूरा समर्थन रहा है। इसके अतिरिक्त पश्चिमी राजस्थान में किसान बचाओ खेत बचाओ आंदोलन भी चलाया गया था। साथ ही 1 से 20 जून के गाओं बन्द आंदोलन को पूरा समर्थन दिया। आम आदमी पार्टी किसानों के हर एक आंदोलन को समर्थन देने की नीति पर काम करती है।

Have something to say? Post your comment
More National News
प्रोजेक्ट रिपोर्ट 1 को बदलकर बिना आधार , बिना कारण प्रोजेक्ट UIT कोटा को हस्तानांतरित कर दिया गया
पंजाब : जोधपुर के नजरबन्दों के साथ कांग्रेस की ओर से की गई बेइन्साफी पर माफी मांगें कैप्टन : आप पंजाब : नशे के तांडव विरुद्ध 2 जुलाई को मुख्यमंत्री निवास के समक्ष रोष मार्च व धरना देगी 'आप'लीडरशिप 
मध्य प्रदेश : क्या एमबी पॉवर से सरकार के गैरकानूनी करार का सवाल उठाएंगे अजय सिंह: आलोक अग्रवाल
राजस्थान : भ्रष्टाचार के गढ़ पर आप का प्रदर्शन, पीड़ित भी आए समर्थन में
दिल्ली : दिल्ली में री-डवलपमेंट के नाम हजारों पेड़ो को काटने के षड्यंत्र में भाजपा और कॉंग्रेस दोनों शामिल : AAP  
रमन के दमन का पुरजोर विरोध 'आप' द्वारा विधायक चीमा को लीगल सैल और सदरपुरा को किसान विंग का प्रांतीय अध्यक्ष किया नियुक्त 
हरियाणा वासियों ने हरियाणा जोड़ो अभियान को दिया भरपूर समर्थन
मेवाड़ दक्षिण राजस्थान में AAP का आगाज