Monday, November 19, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षरआप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरीकिसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तारअनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमतिबेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौरकर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायणराजस्थान की राजनीति में तूफान, प्रदेश के बड़े किसान नेता भाजपा छोड़ ’आप’ में शामिल
National

मंदसौर हिंसा पर जैन आयोग की रिपोर्ट की जाए तुरंत सार्वजनिक: आलोक अग्रवाल

June 19, 2018 06:00 PM
आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता आलोक अग्रवाल

आम आदमी पार्टी ने रिपोर्ट पर जताई हैरत, प्रदेश अध्यक्ष ने कहा, हर बार दोष किसान पर ही मढ़ा जाता है
रिपोर्ट सार्वजनिक कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग

आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता आलोक अग्रवाल ने राज्य सरकार से मांग की है कि मंदसौर हिंसा पर जैन आयोग की रिपोर्ट को तुरंत सार्वजनिक किया जाए। उन्होंने कहा कि एक प्रतिष्ठित अखबार ने इस संबंध में जो खबर प्रकाशित की है, वह चौंकाने वाली है। खबर के मुताबिक आयोग की रिपोर्ट कहती है कि गोली चलाने में नियमों का पालन नहीं हुआ, पहले पांव में गोली चलानी थी, लेकिन सीधी दागी गई। पुलिस-प्रशासन में सामंजस्य नहीं था। सीएसपी को गोली चलाने की सूचना नहीं दी गई। जिला प्रशासन ने किसानों की मांगें जानने की कोशिश ही नहीं की। इतना ही नहीं अप्रशिक्षित बल ने आंसू गैस के गोले चलाए, जो असफल रहे। सूचना सीएसपी को दी होती तो दोबारा गोली चलाने की नौबत ही न आती। सूचना तंत्र फेल हुआ। 

आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता आलोक अग्रवाल ने राज्य सरकार से मांग की है कि मंदसौर हिंसा पर जैन आयोग की रिपोर्ट को तुरंत सार्वजनिक किया जाए। उन्होंने कहा कि एक प्रतिष्ठित अखबार ने इस संबंध में जो खबर प्रकाशित की है, वह चौंकाने वाली है।

उन्होंने कहा कि इतन बिंदुओं के आधार पर सीधे-सीधे इसके लिए प्रशासन की जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए थी, लेकिन अगर आयोग ने प्रशासन और पुलिस को क्लीन चिट दी है तो यह बेहद चौंकाने वाला है। इस मामले में अगर कोई अधिकारी दोषी नहीं है। उल्टे मामले में पीडि़त किसानों को ही दोषी ठहराने की कोशिश की गई है, जिन पर मामले दर्ज हैं। उन्होंने कहा कि यह रिपोर्ट सीधे-सीधे शिवराज सरकार के किसान विरोधी चेहरे को उजागर करती है।

कांग्रेस के कार्यकाल में भी हुआ ऐसा ही
इसी तरह 1998 में मुलताई में कांग्रेस सरकार ने किसानों पर गोली चलाई थी और इसमें 18 किसानों की मौत हुई थी। तब भी कोई अधिकारी दोषी नहीं पाया गया और किसान व किसान नेताओं को आजीवन कारावास मिला। ये दोनों मामले साफ बताते हैं कि कांग्रेस और भाजपा किसानों के प्रति कैसा रवैया रखती हैं। दोनों पार्टियों के लिए किसानों की समस्याओं से कोई मतलब नहीं है और वे महज अपने चुनावी फायदे के लिए किसानों से हमदर्दी का ढोंग करती हैं।

उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी का मानना है कि जैन आयोग की पूरी रिपोर्ट, सभी सिफारिशें, तथ्य और उनके निष्कर्ष समेत तुरंत सार्वजनिक की जानी चाहिए। साथ ही मंदसौर हिंसा की जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए और दोषी लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जानी चाहिए।

Have something to say? Post your comment
More National News
भाजपा सांसद का सिग्नेचर ब्रिज उद्घाटन समारोह में हंगामा
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षर
आप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट
महिलाओं ने लोकसभा चुनावों में 'आप' को वोट देने का किया आह्वान
नगर-निगम के स्कूलों की बुरी हालत पर भाजपा को घेरा
28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरी
किसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तार
अनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमति
बेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौर
कर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायण