Monday, November 19, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षरआप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरीकिसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तारअनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमतिबेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौरकर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायणराजस्थान की राजनीति में तूफान, प्रदेश के बड़े किसान नेता भाजपा छोड़ ’आप’ में शामिल
National

भाजपा सरकार जनप्रतिनिधितत्व से नही तानाशाही से चलाना चाहती है: जयहिंद

June 19, 2018 05:53 PM
प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद

अधिकारीयों को पहले से ही पता है प्रोटोकोल : जयहिंद

भाजपा अपना रही है दोगली नीति : जयहिंद

 चंडीगढ़ | आज प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने भाजपा सरकार द्वारा जारी फरमान कि आईएस व आईपीएस ऑफिसर किसी भी मंत्री के आगमन पर खड़े होंगे की कड़ी निंदा की व कहा कि भाजपा सरकार जनप्रतिनिधितत्व से नही तानाशाह से चलाना चाहती है |

जयहिंद ने कहा कि ये फरमान जारी कर भाजपा सरकार का पता चलता है कि भाजपा सरकार के मंत्री व नेता कितने घमंडी है |

जयहिंद ने कहा कि खट्टर सरकार को अपनी आवभगत से मतलब है , जनता की भलाई से कोई सरोकार नही है |

जयहिंद ने कहा कि भाजपा का दोगला चेहरा सामने आ गया है इस फरमान से , जहाँ एक तरफ हरियाणा में प्रशासनिक अफसरों को भ्रष्ट नेताओ की चमचागिरी करने के लिए मजबूर कर रही है वही दिल्ली में गवर्नर व प्रशासनिक अफसरों की आड़ में जनता द्वारा चुनी सरकार को जन कल्याण की योजनाये लागू नही करने दे रही है | 

जयहिंद ने कहा कि दिल्ली की जनता के लोकप्रिय मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के कर्मठता व ईमानदारी का ही परिणाम है कि अब तक देश की प्रमुख 12 दलों के जन-प्रतिनिधियों ने भाजपा सरकार की कथनी और करनी की कड़े शब्दों में निंदा की है |

जयहिंद ने कहा कि जिस तरह से विवादापस्द फरमान खट्टर सरकार ने जारी किया है उससे लगता है कि भाजपा अपने शासित प्रदेशों में प्रशासनिक अफसरों को कठपुतली बना रही है |

जयहिंद ने कहा कि विडम्बना ये है कि वही दिल्ली सरकार के खिलाफ इन्ही प्रशासनिक अफसरों को सरकार के खिलाफ भाजपा उकसा रही है ताकि दिल्ली की चुनी हुई सरकार जनता के काम न पाए क्योकि हम सब जानते है कि कोई भी सरकार प्रशासनिक अफसरों के बिना जनता की कल्याणकारी योजना सफल नही बना सकती | अब भाजपा का दोगला चेहरा सबके सामने है |

जयहिंद ने इस मौके पर दिल्ली में आम आदमी पार्टी के कार्य को गिनाते हुए कहा कि अगर बीजेपी किसी भी राज्य की तुलना दिल्ली से करके देख ले | दिल्ली की केजरीवाल सरकार शिक्षा , स्वास्थ्य व जनहित के कार्यों में अवल नंबर पर है और यही बात मोदी सरकार को पच नही रही है |

जयहिंद ने कहा कि भाजपा दिल्ली में आम आदमी की सरकार द्वारा किये कामों से पूरी तरह से बोखला चुकी है और औछे हथकंडे अपना रही है |

जयहिंद ने कहा कि भाजपा सैविधानिक पद के दरुपयोग के माध्यम से या फिर दिल्ली में कार्यरत प्रशासनिक अफसरों के माध्यम से दिल्ली सरकार के कामो में रोड़ा अटकाना चाहती है |

जयहिंद ने कहा कि दिल्ली की जनता के लोकप्रिय मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के कर्मठता व ईमानदारी का ही परिणाम है कि अब तक देश की प्रमुख 12 दलों के जन-प्रतिनिधियों ने भाजपा सरकार की कथनी और करनी की कड़े शब्दों में निंदा की है |

जयहिंद ने कहा कि अब जनता जान चुकी है कि भाजपा सभी सैवाधानिक मर्यादाओं को त्याग कर जिस तरह से गैर – भाजपा शासित प्रदेशों की सरकारों के अधिकारों का हनन कर रही है | इसका परिणाम 2019 में आने वाले चुनाव में भाजपा को भुगतना पड़ेगा |

Have something to say? Post your comment
More National News
भाजपा सांसद का सिग्नेचर ब्रिज उद्घाटन समारोह में हंगामा
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षर
आप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट
महिलाओं ने लोकसभा चुनावों में 'आप' को वोट देने का किया आह्वान
नगर-निगम के स्कूलों की बुरी हालत पर भाजपा को घेरा
28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरी
किसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तार
अनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमति
बेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौर
कर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायण