Wednesday, October 17, 2018
Follow us on
Download Mobile App
National

भीषण होते जल संकट से निपटने का कोई कारगर उपाय नहीं कर सकी वसुंधरा सरकार, ‘आप’ ने समय रहते समाधान के लिए चेताया था

April 28, 2018 10:08 PM
भीषण गर्मी के पहले चरण में ही राजस्थान के कई शहर कई गाँव भयानक जल सकंट से जूझ रहे हैं

>सत्ता में आते ही एक साल में पेय जल समस्या का 100 फीसदी समाधान देगी ‘आप’

 > दिल्ली की तर्ज पर राजस्थान के हर घर को मिलेगा मुफ्त पानी

 जयपुर : भीषण गर्मी के पहले चरण में ही राजस्थान के कई शहर भयानक जल सकंट से जूझ रहे हैं। राज्य की राजधानी भी इससे अछूती नहीं है। शहर के कई हिस्सों को ‘डार्क जोन’ (जहां भू जल स्तर कम हो रहा है) घोषित कर दिए गए हैं। इन इलाकों में पानी की भयानक किल्लत हो गई है। आम आदमी पार्टी ने विकराल हो रही इस समस्या का समाधान गर्मियां शुरू होने से पहले ही कर लेने के लिए वसुंधरा सरकार को कई बार चेतावनी दी किन्तु तब वसुंधरा सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी और आज हालत यह हैं कि कई इलाकों में लोग पानी की बूंद-बूंद के लिए तरसने लगे हैं.

         आम आदमी पार्टी के नेता पी.सी.भंडारी ने बताया कि ऐसा नहीं है कि प्रदेश में पेय जल संकट इसी साल हुआ हो बल्कि यह संकट तो यहाँ दस्तूर बन चुका है, किन्तु सरकार सब कुछ जानते समझते हुए भी पेय जल समाधान की दिशा में आंखे मूंदे रहती है और प्रदेश के 33 में से 19 जिले हर साल पीने के पानी की समस्या को एक त्रासदी की भांति झेलने के लिए विवश होते है.

आम आदमी पार्टी के नेता पी.सी.भंडारी ने बताया कि  ऐसा नहीं है कि प्रदेश में पेय जल संकट इसी साल हुआ हो बल्कि यह संकट तो यहाँ दस्तूर बन चुका है, किन्तु सरकार सब कुछ जानते समझते हुए भी पेय जल समाधान की दिशा में आंखे मूंदे रहती है और प्रदेश के 33 में से 19 जिले हर साल पीने के पानी की समस्या को एक त्रासदी की भांति झेलने के लिए विवश होते है

उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में पेय जल की आपूर्ति की दिशा में 3 साल में वह कर दिखाया जो पिछली सरकारें 67 सालों में नहीं कर सकी, ‘आप’ नेता ने कहा कि राजस्थान में आम आदमी पार्टी के सत्ता में आते ही एक साल के भीतर पानी की समस्या का 100 फीसदी समाधान प्राथमिकता के आधार पर किया जायेगा. और दिल्ली की तर्ज पर यह पानी पूरी तरह मुफ्त होगा.

 आप नेता ने कहा कि  स्थानीय निवासियों के मुताबिक आज 4-5 हजार की जनसंख्या वाली आवादी में 2-3 दिन बाद4000 लीटर क्षमता का पानी का टैंकर आता है। जनता का कहना है कि, 'हम पूरी तरह से सरकार पर निर्भर हैं लेकिन जितना पानी सरकार देती है, उससे तो पीने की जरूरत भी पूरी नहीं हो पाती।'

ऐसे में लोगों को पीने के पानी की भारी कीमत चुकानी पड़ रही है। शहर के साथ लगते कई गाँव पीने के पानी के लिए मोहताज हो गए हैं। पीने के पानी की किल्लत के चलते लोगों में आपस में लड़ाईयां होने लगी हैं।

पानी की समस्या से जूझ रहे इलाकों से लगातार मिल रही शिकायतों पर जिला प्रभारी मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने जेडीए और नगर निगम की बैठक में पेय जल की किल्लत का मुद्दा उठाया. जेडीए और नगर निगम के अधिकारियों को लताड़ भी लगी किन्तु जनता को कैसे राहत मिले इस पर मंत्री जी भी खामोश नजर आए.

Have something to say? Post your comment
More National News
ब्रिटिश काउंसिल और दिल्ली सरकार के बीच समझौता
कट्टर ईमानदार हैं हम, मोदी जी ने दी क्लीन चिट : अरविंद केजरीवाल
पवित्र धन से स्वच्छ राजनीति, ‘आप’ का अनूठा अभियान 
दिल्ली का आदमी सीना चौड़ा कर कह सकता है कि मेरा मुख्यमंत्री ईमानदार है
'आप' युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाने की तरफ अग्रसर
कूड़े के ढेर को कराया पार्षद ने साफ़, फेसबुक से मिली थी शिकायत
पहले नवरात्रे में पार्षद ने मंदिर में लगवाए गमले
ਸਾਜ਼ਿਸ਼ ਤਹਿਤ ਸਰਕਾਰੀ ਸਕੂਲਾਂ ਨੂੰ ਖ਼ਤਮ ਕੀਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ-ਹਰਪਾਲ ਸਿੰਘ ਚੀਮਾ
एस.एस., रमसा और ठेके पर भर्ती अध्यापकों के साथ डटी आप
अपाहिज दलित उम्मीदवार पर हमला करने वाले कांग्रेसी प्रधान की गिरफ्तारी को ले कर 'आप' ने किया जोरदार रोष प्रदर्शन