Wednesday, November 21, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षरआप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरीकिसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तारअनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमतिबेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौरकर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायणराजस्थान की राजनीति में तूफान, प्रदेश के बड़े किसान नेता भाजपा छोड़ ’आप’ में शामिल
Media Hulchal

बीजेपी नेता ने अपनी ही सरकार पर लगाया चूहे घोटाले का आरोप, सीएम से मांगा जवाब

March 23, 2018 07:59 AM

नेशनल डेस्कः महाराष्ट्र में भाजपा नेता एकनाथ खड़से ने फडणवीस सरकार पर चूहा घोटाले का आरोप लगाया है। इस घोटाले के उजागर होने के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

मंत्रालय में किसान ने की थी आत्महत्या
बीजेपी नेता ने गुरुवार को विधानसभा में कहा कि मंत्रालय ने एक सप्ताह के अंदर 3,19,400 चूहा मारे जाने का दावा किया था। वहीं मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) एक वर्ष में 3 लाख चूहे मारती है। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों मंत्रालय में आत्महत्या करने वाले किसान धर्मा पाटिल ने चूहे मारने वाली दवा लाकर आत्महत्या की थी। एकनाथ ने आरटीआई के हवाले से इस घोटाले का उजागर किया है। उन्होंने कहा कि यह बहुत बड़ा घोटाला है, इसकी जांच होनी चाहिए। 

बीएमसी एक साल में मारती है तीन लाख चूहे
उन्होंने कहा कि सीएम के अधीन सामान्य प्रशासन विभाग और गृह विभाग के कामकाज पर भी सवाल खड़े किए हैं। खड़से ने कहा कि जब बीएमसी एक साल में तीन लाख चूहे मारती है तो चूहा मारने को ठेका लेने वाली कंपनी ने एक सप्ताह में कैसे 3,19,400 चूहे मार दिए।



बीएमसी एक साल में मारती है तीन लाख चूहे
उन्होंने कहा कि सीएम के अधीन सामान्य प्रशासन विभाग और गृह विभाग के कामकाज पर भी सवाल खड़े किए हैं। खड़से ने कहा कि जब बीएमसी एक साल में तीन लाख चूहे मारती है तो चूहा मारने को ठेका लेने वाली कंपनी ने एक सप्ताह में कैसे 3,19,400 चूहे मार दिए।

दरअसल, चूहे मारने के लिए कंपनी को छह महीने का वक्त दिया गया था। वहीं कंपनी ने यह काम सात दिन में खत्म कर दिया। आंकड़ों के अनुसार मंत्रालय में प्रतिदिन 44 हजार चूहे मारने का कारनामा किया है। वहीं एक दिन में 9 टन से ज्यादा चूहे मारने का काम मंत्रालय ने किया है। लेकिन मरे हुए चूहों को कहां और कैसे ठिकाने लगाया है, इसकी जानकारी दी जा रही है।

मामले की हो जांच
खडसे ने कहा कि जिस कंपनी को चूहे मारने का ठेका दिया गया था, उसके पास मंत्रालय में जहर लाने की अनुमति नहीं थी। गृह विभाग और सामान्य प्रशासन विभाग की अनुमति के बिना जहर मंत्रालय में कैसे आया। इस पूरे मामले की जांच कराई जानी चाहिए।

सभार : पंजाब केसरी 

Have something to say? Post your comment
More Media Hulchal News
विजय माल्या और नीरव मोदी समेत 31 कारोबारी विदेश फ़रार: विदेश मंत्रालय
एसिड अटैक पीड़िता से बोला BJP मंत्री अब भी बुरी नहीं दिखती हो, कपड़े उतारो और ले लो नौकरी
भारत के 49 बैंक दिवालिया होने की कगार पर , 5 साल में खुद डूबा दिए 3 लाख 67 हजार करोड़!
दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने पूरे किए 3 साल, सरकार ने मनाया जश्न तो विपक्ष ने गिनाईं कमियां अंकित सक्सेना की शोकसभा में परिजनों को मुआवजा देने से जुड़े सवाल पर केजरीवाल के उठकर जाने की क्या है हकीकत? केजरीवाल का ये फॉर्मूला कारोबारियों को दिला सकता है सीलिंग से राहत! ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामला : 'आप' विधायकों को राहत, हाईकोर्ट ने उपचुनाव की नोटिफिकेशन जारी करने पर लगाई रोक आज मोदी का भाषण, WEF ने बताया- भारत से ज्यादा उभर रही है PAK की अर्थव्यवस्था! मोदी सरकार का खतरनाक नसबंदी अभियान
घट रही है जीएसटी रिटर्न फाइल करने वालों की संख्‍या, सितंबर के लिए भरे गए केवल 37 लाख GSTR-3बी फॉर्म