Sunday, January 26, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
केंद्र की भाजपा सरकार की सहमति से डीडीए ने गरीबों को फ्लैट देने के नाम पर किया घोटाला - संजय सिंहबहस करें कैप्टन, बता देंगे 5 मिनटों में कैसे रद्द होंगे महंगे बिजली समझौते - अमन अरोड़ाभाजपा ने डाला महंगी शिक्षा का बोझ, सीबीएसई स्कूल में 10वीं और 12वीं के फीस बढ़ी - मनीष सिसोदियादिल्ली में पूर्व सैनिकों ने अरविंद केजरीवाल को दिया समर्थन5 साल दिन रात काम करती रही आप सरकार, भाजपा और मीडिया की तंद्रा अब भंग हुईआम आदमी पार्टी का 2020 विधानसभा चुनाव स्लोगन “अच्छे बीते 5 साल, लगे रहो केजरीवाल” लांचभाजपा सांसद विजय गोयल ने किया दिल्ली की जनता का अपमान: संजय सिंहहार की हताशा में भाजपा दिल्ली में गंदी राजनीति पर उतारू, हिंसा की विस्तृत जांच हो, दोषियों को मिले सजा - गोपाल राय
Revealing

भाजपा के चंदे के हिसाब का खुलासा!

March 01, 2015 01:53 PM

देश से भ्रष्टाचार और काले धन का नामो निशाँ मिटा देने का विज़न रखें वाली भाजपा के खुद की दानकर्ताओं की सूची में ऐसी जानकारियाँ मिली हैं जिन्हें देख कर यह सोचना लाज़मी है की क्या भ्रष्टाचार उन्मूलन और काले धन पे लगाम भी भाजपा का एक जुमला ही था?

    साल 2013-14 के लिए बीजेपी द्वारा चुनाव आयोग को सौंपी गई दानकर्ताओं की रिपोर्ट में कई गड़बड़ियां देखने को मिली हैं। एक ही चेक नंबर से 4 लाख रुपये से ऊपर की रकम की अलग-अलग ट्रांजैक्शंस दिखाई गई हैं। बीजेपी ने 20 दिसंबर, 2014 को यह रिपोर्ट इलेक्शन कमिशन को सौंपी थी, जबकि इसे 31 अक्टूबर, 2014 तक दिया जाना था।

    इस रिपोर्ट का विश्लेषण करने वाले एनजीओ एडीआर का कहना है तीन चेक या ड्राफ्ट नंबर ऐसे हैं, जिनके ऊपर दो-दो ट्रांजैक्शंस हुई हैं। जैसे कि कंपनी ए टु जेड़ सर्विसेस पुणे ने चेक या डीडी नंबर 957 पर 84 लाख रुपये बीजेपी को डोनेट किए हैं। मुंबई के रहने वाले किसी जमुना गुलाम वाहनवती ने इसी चेक या ड्राफ्ट नंबर पर पार्टी को 20 लाख रुपये डोनेट किए हैं।

    इसी तरह से रवि डिवेलपर्स ने चेक नंबर 793956 पर बीजेपी को साढ़े 7 लाख रुपये डोनेट किए, वहीं रवि डिवेलपमेंट्स द्वारा भी इसी चेक नंबर पर इतनी ही रकम देने का जिक्र है। इन दोनों का पता और पैन नहीं दिया गया है। ठीक ऐसे ही प्रवीण कुमार ने 2 ट्रांजैक्शंस में 5लाख रुपये दिए, मगर चेक नंबर दोनों बार (826592) ही है। इनका भी कॉन्टैक्ट नंबर नहीं दिया गया है।

इस रिपोर्ट का विश्लेषण करने वाले एनजीओ एडीआर का कहना है तीन चेक या ड्राफ्ट नंबर ऐसे हैं, जिनके ऊपर दो-दो ट्रांजैक्शंस हुई हैं।


इस रिपोर्ट की विस्तृत जानकारी एडीआर ने अपनी वेबसाइट पर अपलोड की है जिसे आप सभी एडीआर लिंक पर जाकर देख सकते हैं|

    दोहराव के अलावा एडीआर ने कुछ ऐसे डोनेशंस की तरफ भी ध्यान खींचा है, जिसमें नाम और पता नहीं दिया गया है। एक नाम है V.V और एक जगह सिर्फ BJP नाम से एंट्री की गई है। सवा लाख की दो एंट्रीज़ ऐसी हैं, जिनमें नाम के बजाय खाली जगह छोड़ी गई है। एडीआर के को-फाउंडर जगदीप छोकर का कहना है, 'ये असामान्य सी ट्रांजैक्शंस हैं, जिनसे ऊपर स्पष्टीकरण आना चाहिए।'

Have something to say? Post your comment
More Revealing News