Saturday, September 22, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
आम आदमी पार्टी के प्रत्याशियों और पदाधिकारियों ने सोशल मीडिया के गुर सीखेअल्का लम्बा ने मीडिया से रुबरु करवाया CYSS और AISA का साँझा पैनल प्रदेश में शिक्षा, स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाओं को ध्वस्त कर दिया है भाजपा सरकार ने: आलोक अग्रवालपैट्रोल और डीज़ल के दामों में बेतहाशा बढ़ोतरी करके PM नरेंद्र मोदी ने देश की जनता के जेब पर दिन दहाड़े मारा डाका: राघव चड्ढाCYSS-AISA make a new beginning in DUSUदिल्ली विश्वविद्यालय में वैकल्पिक और सकारात्मक राजनीति के लिए मिलकर चुनाव लड़ेगें CYSS और AISA : गोपाल रायहरीश कौशल कुराली को मोहाली का नया जिला प्रधान किया नियुक्तएसी बसों में सफर की योजना से CYSS गदगद किया आम आदमी पार्टी दिल्ली सरकार का किया धन्यवाद
Media Hulchal

घट रही है जीएसटी रिटर्न फाइल करने वालों की संख्‍या, सितंबर के लिए भरे गए केवल 37 लाख GSTR-3बी फॉर्म

October 22, 2017 05:29 PM

जीएसटीएन नेटवर्क के चेयरमैन अजय भूषण पांडे ने कहा कि GSTR-3B में शुरुआती रिटर्न भरने की समय सीमा 20 सितंबर की मध्‍यरात्रि को समाप्‍त हो गई है।नई दिल्ली। जीएसटीएन नेटवर्क पर सितंबर महीने के लिए शुक्रवार शाम सात बजे तक करीब 37 लाख जीएसटी रिटर्न भरे गए और हर घंटे के आधार पर 75,000 बिक्री आंकड़े इसमें अपलोड किए जा रहे हैं। जीएसटीएन नेटवर्क के चेयरमैन अजय भूषण पांडे ने कहा कि माल एवं सेवा कर व्यवस्था के तहत GSTR-3B में शुरुआती रिटर्न भरने की समय सीमा 20 सितंबर की मध्‍यरात्रि को समाप्‍त हो गई है।

देश में जीएसटी व्यवस्था एक जुलाई से लागू हुई है। उसके बाद यह तीसरा महीना है जिसके लिए कंपनियों को GSTR-3B रिटर्न भरना है। इसमें उन्हें अपनी बिक्री के बारे में पूरा ब्योरा देना होता है। जुलाई और अगस्त के लिए क्रमश: 55.68 लाख और 50 लाख रिटर्न भरे गए, जिससे क्रमश: 95,000 करोड़ रुपए और 92,000 करोड़ रुपए राजस्व प्राप्त हुआ। 

पांडे ने कहा कि जीएसटीएन प्रणाली स्थिर है और फिलहाल प्रणाली के तहत जो आंकड़े आ रहे हैं उसमें उसकी कुल क्षमता का मात्र 30 प्रतिशत ही इस्तेमाल हो रहा है। पिछले दो दिनों में इसमें 20 लाख रिटर्न अपलोड किए गए हैं।

पांडे ने कहा कि जीएसटीएन प्रणाली स्थिर है और फिलहाल प्रणाली के तहत जो आंकड़े आ रहे हैं उसमें उसकी कुल क्षमता का मात्र 30 प्रतिशत ही इस्तेमाल हो रहा है। पिछले दो दिनों में इसमें 20 लाख रिटर्न अपलोड किए गए हैं। उन्होंने कहा, शुक्रवार शाम 7 बजे तक 36.84 लाख रिटर्न भरे गए हैं। रिटर्न फाइल करने के काम में तेजी आ रही है। औसतन हर घंटे के हिसाब से 75,000 रिटर्न अपलोड किए जा रहे हैं। जीएसटीएन प्रणाली स्थिर है। हम उम्मीद करते हैं कि अधिक-से-अधिक लोग निर्धारित समय में रिटर्न फाइल कर सकेंगे।

पांडे ने कहा कि पहले दो महीनों में कंपनियों ने निर्धारित तिथि समाप्त होने के बाद भी रिटर्न अपलोड किए। सितंबर माह के रिटर्न का आंकड़ा भी अंतत: बढ़ेगा। उन्होंने कहा, अगर हम नेटवर्क की क्षमता देखे तो जीएसटीएन केवल 30 प्रतिशत का उपयोग कर रहा है। इस लिहाज से सर्वर में और रिटर्न अपलोड करने की काफी गुंजाइश है।

नुपालन बोझा कम करने के लिए जीएसटी परिषद ने कंपनियों को जीएसटी क्रियान्वयन के पहले छह महीने दिसंबर तक फॉर्म जीएसटीआर-3बी में अपना शुरुआती कर रिटर्न भरने की अनुमति दी है। इसके अनुसार जीएसटीआर-3बी रिटर्न को अगले महीने की 20 तारीख तक भरना होगा। इसका मतलब है कि सितंबर का रिटर्न 20 अक्‍टूबर तक भरना था।

सौजन्य से : पैसा डॉट खबर इंडिया डॉट कॉम

Have something to say? Post your comment
More Media Hulchal News
बीजेपी नेता ने अपनी ही सरकार पर लगाया चूहे घोटाले का आरोप, सीएम से मांगा जवाब
विजय माल्या और नीरव मोदी समेत 31 कारोबारी विदेश फ़रार: विदेश मंत्रालय
एसिड अटैक पीड़िता से बोला BJP मंत्री अब भी बुरी नहीं दिखती हो, कपड़े उतारो और ले लो नौकरी
भारत के 49 बैंक दिवालिया होने की कगार पर , 5 साल में खुद डूबा दिए 3 लाख 67 हजार करोड़!
दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने पूरे किए 3 साल, सरकार ने मनाया जश्न तो विपक्ष ने गिनाईं कमियां अंकित सक्सेना की शोकसभा में परिजनों को मुआवजा देने से जुड़े सवाल पर केजरीवाल के उठकर जाने की क्या है हकीकत? केजरीवाल का ये फॉर्मूला कारोबारियों को दिला सकता है सीलिंग से राहत! ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामला : 'आप' विधायकों को राहत, हाईकोर्ट ने उपचुनाव की नोटिफिकेशन जारी करने पर लगाई रोक आज मोदी का भाषण, WEF ने बताया- भारत से ज्यादा उभर रही है PAK की अर्थव्यवस्था! मोदी सरकार का खतरनाक नसबंदी अभियान