Saturday, December 16, 2017
Follow us on
National

गुजरात में CM योगी की तरह PM मोदी का भी बुरा हाल, ‘गौरव यात्रा’ समारोह में खाली कुर्सियों को PM करते रहे संबोधित

October 16, 2017 10:31 PM
गुजरात में CM योगी की तरह PM मोदी का भी बुरा हाल, ‘गौरव यात्रा’ समारोह में खाली कुर्सियों को PM करते रहे संबोधित
गुजरात के चुनाव में अपना दमख़म दिखाती बीजेपी ने आज प्रधानमंत्री को मैदान में उतारा। मगर अपने गृहराज्य जब पीएम मोदी विपक्षियो पर बरस रहे थे तो उनको सुनने वालों संख्या बहुत कम थी।सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो क्लिप साफ़ देखा जा सकता है कुर्सियां कितनी भारी मात्रा में खाली है। दरअसल सोमवार को प्रधानमंत्री मोदी गुजरात के भट गांव पहुंचे, इस दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और अन्य नेता मौजूद रहें। ये पूरा मजमा इक्कठा हुआ था गुजरात विधानसभा की 182 सीटों के लिए। मतलब चुनाव प्रचार के लिए लेकिन बीजेपी ने इसे नाम दिया था ‘गुजरात गौरव यात्रा’।पीएम मोदी ने जब जनसभा को संबोधित कर रहे थे वहां वो भीड़ नहीं देखी गई जो पीएम मोदी की रैली में हुआ करती थी। जीएसटी से नाराज़ कारोबारी वर्ग के गुस्से का अंदाज़ा खाली कुर्सीयों से लगाया जा सकता है।ऐसा पहली बार नहीं है जब कुर्सी खालीं रह गई हो और सोशल मीडिया के शोर में उस खालीं कुर्सी को छुपा दिया गया हो। इससे पहले भी अमित शाह की रैली में खली कुर्सीयों की तस्वीरें खूब वायरल हुई थी।बता दे गुजरात में चुनाव के चलते नाराज़ कारोबारियों को बीजेपी और पीएम मोदी खूब कोशिश कर रही है मगर एन चुनाव से पहले खालीं कुर्सी बीजेपी के खतरें की घंटी साबित हो सकती है।
Have something to say? Post your comment
More National News
दिल्ली में ‘प्रदूषण’ और एल.जी. बने दमघोंटू
सरकार का बड़ा ऐलान : ये 40 सेवाएं अब दिल्ली वासियों को घर बैठे मिलेंगी, अफसरों के चक्कर काटना बीते दिनों की बात
अब दिल्ली में तैयार होगा ‘राशन’ का होम डिलीवरी नेटवर्क
अल्का के ‘सैनेटरी पैड्स’ और भक्तों की ‘गाय’
‘प्रदूषण’ का खेल खेलते नेताओं का अखाड़ा बनी ‘दिल्ली’
केजरीवाल का केंद्र सरकार को जबाब, पहले पानी का छिड़काव अब ऑड-ईवन
'नोटबंधी' के 'हिटलरी फरमान' से जनता को दिया धोखा
जो न कर पाई 'केंद्र सरकार', वो करेगी 'आप सरकार'
नार्थ घोंडा की तेजराम गली और प्रजापति गली के निर्माण कार्य का शुभारंभ
‘अरविंद केजरीवाल और योगेंद्र यादव हमारी वर्तमान राजनीति की दो ज़रूरतें हैं’