Sunday, December 17, 2017
Follow us on
National

नेताओं के इशारे पर गुड़िया गैंग रेप व हत्या मामले के आरोपियों को बचा रहे हिमाचल के IG और DSP समेत 8 पुलिस कर्मी गिरफ्तार

August 29, 2017 09:07 PM

शिमला: सीबीआई ने कोटखाई गुड़िया गैंगरेप हत्याकांड में आईजी समेत 8 पुलिस अधिकारीयों को गिरफ्तार किया है। जानकारी के अनुसार सीबीआई ने आईजी जहूर जैदी समेत आठ पुलिस अफसरों और कर्मचारियों को गिरफ्तार किया है

इसके अलावा डीएसपी मनोज जोशी की भी गिरफ़्तारी  हुई है। सीबीआई सूत्रों के हवाले से मिल रही ख़बरों के मुताबिक इस मामले में पुलिस अधिकारिओं के राज उगलते ही बड़े नेताओं की गिरफ्तारी हो सकती है. स्मरण रहे कि इन पर गुडिया गैंग रेप व हत्याकांड के असली आरोप‌ियों को बचाने व भगाने का आरोप है। सीबीआई की इस कार्रवाई से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है। यहाँ आम चर्चा है कि एक राजनेता के नजदीकी रिश्तेदार युवकों ने इस घटना को अंजाम दिया और उसी राजनेता के इशारे पर पुलिस के उच्च अधिकारियों ने गुडिया के कातिलों को बचाने का षड्यंत्र रचा. 

क्या है पूरा मामला?

इसी साल 4 जुलाई को शिमला के कोटखाई से एक छात्रा स्कूल से घर लौटते वक्त लापता हो गई. उसी के दो दिन बाद उसकी निर्वस्त्र लाश जंगल में मिली. छात्रा की गैंगरेप के बाद हत्या की गई थी.  इसके विरोध में देश भर में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हुए, और मामला सीबीआई के हवाले कर दिया गया.

इस मामले में अभी और कई खुलासे हो सकते हैं। कोटखाई गुड़िया गैंगरेप हत्याकांड में पहले कुछ आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था लेकिन बाद में इन्हें छोड़ दिया गया था।

पुलिस ने इस मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया था जिनमें से एक आरोपी सूरज की लॉकअप में  ही हत्या कर दी गई थी।

ऐसी भी आशंका जताई जा रही है कि इस मामलें में कुछ प्रभावशाली लोग भी समलित हो सकतें हैं. इसी कारणवश ये केस सीबीआई को सौपा गया हैं. गुड़िया न्याय मंच ने गुड़िया मामले में पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों की गिरफ्तारी का स्वागत किया है व इसे जनता की जीत करार दिया है। गुड़िया न्याय मंच के सह संयोजक विजेंद्र मेहरा ने कहा है कि इस मसले पर पुलिस की भूमिका पहले दिन से ही सन्देहास्पद थी व उनकी मिलीभगत सामने आ रही थी। पुलिस किस कदर जंगलराज फैला सकती है यह सूरज की लॉकअप में हत्या से साबित हो गया था। गुड़िया न्याय मंच को यह बात स्पष्ट थी कि पुलिस दोषियों को बचाने में लगी थी व झूठी वाहवाही लूटने के लिए नई- नई कहानियां गढ़ रही थी। गुड़िया न्याय मंच ने इस लड़ाई को शुरू से लड़ा है व यह लड़ाई अब भी जारी है। इस बात से यह भी साफ है कि जब पुलिस ही भक्षक बन गयी थी और यह सब पुलिस महानिदेशक की अगुआई में हो रहा था तो प्रदेश सरकार उन्हें क्यों नहीं हटाती है। विजेंद्र मेहरा ने मांग की है कि डीजीपी हिमाचल प्रदेश को तुरंत बर्खास्त किया जाए।

Have something to say? Post your comment
More National News
दिल्ली में ‘प्रदूषण’ और एल.जी. बने दमघोंटू
सरकार का बड़ा ऐलान : ये 40 सेवाएं अब दिल्ली वासियों को घर बैठे मिलेंगी, अफसरों के चक्कर काटना बीते दिनों की बात
अब दिल्ली में तैयार होगा ‘राशन’ का होम डिलीवरी नेटवर्क
अल्का के ‘सैनेटरी पैड्स’ और भक्तों की ‘गाय’
‘प्रदूषण’ का खेल खेलते नेताओं का अखाड़ा बनी ‘दिल्ली’
केजरीवाल का केंद्र सरकार को जबाब, पहले पानी का छिड़काव अब ऑड-ईवन
'नोटबंधी' के 'हिटलरी फरमान' से जनता को दिया धोखा
जो न कर पाई 'केंद्र सरकार', वो करेगी 'आप सरकार'
नार्थ घोंडा की तेजराम गली और प्रजापति गली के निर्माण कार्य का शुभारंभ
‘अरविंद केजरीवाल और योगेंद्र यादव हमारी वर्तमान राजनीति की दो ज़रूरतें हैं’