Thursday, January 23, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
केंद्र की भाजपा सरकार की सहमति से डीडीए ने गरीबों को फ्लैट देने के नाम पर किया घोटाला - संजय सिंहबहस करें कैप्टन, बता देंगे 5 मिनटों में कैसे रद्द होंगे महंगे बिजली समझौते - अमन अरोड़ाभाजपा ने डाला महंगी शिक्षा का बोझ, सीबीएसई स्कूल में 10वीं और 12वीं के फीस बढ़ी - मनीष सिसोदियादिल्ली में पूर्व सैनिकों ने अरविंद केजरीवाल को दिया समर्थन5 साल दिन रात काम करती रही आप सरकार, भाजपा और मीडिया की तंद्रा अब भंग हुईआम आदमी पार्टी का 2020 विधानसभा चुनाव स्लोगन “अच्छे बीते 5 साल, लगे रहो केजरीवाल” लांचभाजपा सांसद विजय गोयल ने किया दिल्ली की जनता का अपमान: संजय सिंहहार की हताशा में भाजपा दिल्ली में गंदी राजनीति पर उतारू, हिंसा की विस्तृत जांच हो, दोषियों को मिले सजा - गोपाल राय
Media Hulchal

योगी सरकार की संवेदनहीनता के चलते 36 घंटे में 30 बच्चों की मौत

August 11, 2017 08:22 PM

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज में ऑक्सीजन खत्म होने से 30 बच्चों की मौत हो गई है। ये मौतें पिछले 36 घंटे के दौरान हुई हैं। बताया जा रहा है कि 69 लाख रुपये का भुगतान न होने की वजह से फर्म ने ऑक्सीजन की सप्लाई ठप कर दी थी। लिक्विड ऑक्सीजन तो गुरुवार से ही बंद थी और आज सारे सिलेंडर भी खत्म हो गए। इंसेफेलाइटिस वार्ड में मरीजों ने दो घंटे तक अम्बू बैग का सहारा लिया। 

69 लाख रुपये का भुगतान न होने की वजह से फर्म ने ऑक्सीजन की सप्लाई ठप कर दी थी। लिक्विड ऑक्सीजन तो गुरुवार से ही बंद थी और आज सारे सिलेंडर भी खत्म हो गए। इंसेफेलाइटिस वार्ड में मरीजों ने दो घंटे तक अम्बू बैग का सहारा लिया।

हॉस्पिटल मैनेजमेंट की बड़ी लापरवाही के चलते 30 बच्चों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। बीआरडी मेडिकल कालेज में इंसेफेलाइटिस का इलाज कराने आये मरीजों को ऑक्सीजन नहीं मिल सकी, जिससे एनएनयू वार्ड और इंसेफेलाइटिस वार्ड में भर्ती 30 बच्चों की मौत हो गई। मेडिकल कालेज के नेहरु अस्‍पताल में सप्‍लाई करने वाली फर्म का 69 लाख रुपए का भुगतान बकाया था जिसके चलते गुरुवार शाम को फर्म ने अस्‍पताल में लिक्विड ऑक्‍सीजन की आपूर्ति ठप कर दी। गुरुवार से ही मेडिकल कालेज में जम्‍बो सिलेंडरों से गैस की आपूर्ति की जा रही है। बीआरडी मेडिकल कालेज में दो साल पहले लिक्विड आक्‍सीजन का प्‍लांट लगाया गया था। इसके जरिए इंसेफेलाइटिस वार्ड सहित करीब तीन सौ मरीजों को पाइप के जरिए आक्‍सीजन दी जाती है।

 

अम्‍बू बैग के सहारे इंसेफेलाइटिस मरीज
शुक्रवार सुबह सात बजे आक्‍सीजन पूरी तरह खत्‍म हो जाने के चलते इंसेफेलाइटिस वार्ड में करीब दो घंटे तक मरीजों को अम्‍बू बैग के सहारे रहना पड़ा। 12 बजे कुछ सिलेंडर पहुंचे लेकिन इंसेफेलाइटिस इमरजेंसी वार्ड में अभी भी सिलेंडरों की क्राइसिस बनी हुई है। इंसेफेलाइटिस के वार्ड नंबर 100 में हर डेढ़ घंटे में 16 सिलेंडर खर्च हो रहे हैं। चारों तरफ अफरातफरी मची हुई है।  साभार : लाइव हिन्दुस्तान डॉट कॉम

Have something to say? Post your comment
More Media Hulchal News
बीजेपी नेता ने अपनी ही सरकार पर लगाया चूहे घोटाले का आरोप, सीएम से मांगा जवाब
विजय माल्या और नीरव मोदी समेत 31 कारोबारी विदेश फ़रार: विदेश मंत्रालय
एसिड अटैक पीड़िता से बोला BJP मंत्री अब भी बुरी नहीं दिखती हो, कपड़े उतारो और ले लो नौकरी
भारत के 49 बैंक दिवालिया होने की कगार पर , 5 साल में खुद डूबा दिए 3 लाख 67 हजार करोड़!
दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने पूरे किए 3 साल, सरकार ने मनाया जश्न तो विपक्ष ने गिनाईं कमियां अंकित सक्सेना की शोकसभा में परिजनों को मुआवजा देने से जुड़े सवाल पर केजरीवाल के उठकर जाने की क्या है हकीकत? केजरीवाल का ये फॉर्मूला कारोबारियों को दिला सकता है सीलिंग से राहत! ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामला : 'आप' विधायकों को राहत, हाईकोर्ट ने उपचुनाव की नोटिफिकेशन जारी करने पर लगाई रोक आज मोदी का भाषण, WEF ने बताया- भारत से ज्यादा उभर रही है PAK की अर्थव्यवस्था! मोदी सरकार का खतरनाक नसबंदी अभियान