Tuesday, August 22, 2017
Follow us on
BREAKING NEWS
इन चोर दरवाजों से राजनीतिक पार्टियों को मिलता है 'धन'ADR की रिपोर्ट में हुआ खुलासा, बिना PAN और पते के BJP ने लिया 705 करोड़ का चंदाविजय गोयल को जमीन देने के लिए पलट दिए DDA ने अपने ही बनाये नियम पुलिस की मौजूदगी में बाढ़ में मारे गए लोगों के शवों का ऐसा 'हश्र' आपकी 'रूह' कंपा देगामोहल्ला क्लीनिक के लिए जमीन नहीं विजय गोयल की NGO को जमीन देने के लिए बदल डाले नियमअदानी समूह की कंपनी ने की 1500 करोड़ की हेराफेरी और टैक्‍स चोरी, मोदी जी के मित्र हैं कोई इनका क्या बिगाड़ लेगा ?प्रेरणा से ओतप्रोत है अरविन्द केजरीवाल का जीवन : जन्मदिवस विशेष योगी सरकार की संवेदनहीनता के चलते 36 घंटे में 30 बच्चों की मौत
Media Hulchal

ACB अफसर बनकर ठग रहा था BJP के पूर्व मंत्री का पोता, अरेस्ट

August 10, 2017 09:25 PM
आरोपी साहिल राजपाल राजस्थान बीजेपी के वरिष्ठ नेता राधेश्याम गंगानगर का पोता

राजस्थान में एंटी करप्शन ब्यूरो ने एक बड़े इंटरनेशनल स्पूफ कॉल गैंग का भंड़ाफोड़ किया है. यह गैंग सरकारी अधिकारियों के मोबाइल और टेलीफोन नंबर लेकर उनके नाम से चौथ वसूली कर रहा था. इस मामले में राजस्थान बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री के पोते को गिरफ्तार किया गया है. इस गैंग का संचालन एक बीेजेपी विधायक के सरकारी आवास से किया जा रहा था. 

एसीबी अधिकारी के मुताबिक, करीब 6 महीने पहले साहिल ने पीएचडी विभाग को फोन किया था. साहिल ने उनसे भ्रष्टाचार करने पर कार्रवाई करने की धमकी देकर करीब डेढ़ लाख रुपए भी वसूल किए थे. बीते फरवरी में एक इंजीनियर ने एसीबी में शिकायत दर्ज करवाई. जब साहिल के नंबर की जांच की गई तो वह नंबर एसीबी के एक अधिकारी शंकर दत्त शर्मा का ही निकला.

मामला राजधानी जयपुर का है. आरोपी साहिल राजपाल राजस्थान बीजेपी के वरिष्ठ नेता राधेश्याम गंगानगर का पोता है. आरोपी ACB का फर्जी अफसर बनकर इंजीनियर्स और ठेकेदारों को स्पूफिंग के जरिए अन्तर्राष्ट्रीय कॉल कर चौथ वसूली करता था. साहिल ही गिरोह का मास्टिरमाइंड था, जो बड़ी-बड़ी कंपनियों से चौथ वसूली का गोरखधंधा चला रहा था.

एसीबी अधिकारी के मुताबिक, करीब 6 महीने पहले साहिल ने पीएचडी विभाग को फोन किया था. साहिल ने उनसे भ्रष्टाचार करने पर कार्रवाई करने की धमकी देकर करीब डेढ़ लाख रुपए भी वसूल किए थे. बीते फरवरी में एक इंजीनियर ने एसीबी में शिकायत दर्ज करवाई. जब साहिल के नंबर की जांच की गई तो वह नंबर एसीबी के एक अधिकारी शंकर दत्त शर्मा का ही निकला.

जिसके बाद खुलासा हुआ कि आरोपी धमकी देने या डराने के लिए बड़े-बड़े अधिकारियों का नाम इस्तेमाल कर रहा है. इसके बाद इस मामले की जांच महानिरीक्षक सचिन मित्तल को दी गई. सचिन मित्तल ने जांच करते हुए इंटरनेट से की गई कॉल का पता करने के लिए कई देशों की फोन कंपनियों से सम्पर्क किया. सभी नौ देशों की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस औ एसीबी के अधिकारी आरोपी तक जा पहुंचे.

 आरोपी जयपुर में BJP MLA मोहन लाल के सरकारी आवास में बैठकर इन वारदातों को अंजाम दे रहा था. फिलहाल, साहिल के खिलाफ केस दर्ज कर उसके बाकी गिरोह के सदस्यों की तलाश की जा रही है.
Have something to say? Post your comment
More Media Hulchal News
पुलिस की मौजूदगी में बाढ़ में मारे गए लोगों के शवों का ऐसा 'हश्र' आपकी 'रूह' कंपा देगा
अदानी समूह की कंपनी ने की 1500 करोड़ की हेराफेरी और टैक्‍स चोरी, मोदी जी के मित्र हैं कोई इनका क्या बिगाड़ लेगा ?
प्रेरणा से ओतप्रोत है अरविन्द केजरीवाल का जीवन : जन्मदिवस विशेष
योगी सरकार की संवेदनहीनता के चलते 36 घंटे में 30 बच्चों की मौत
रसूखदार पत्रकार से पूछताछ करने की हिम्मत सीबीआई जुटा पाएगी?
वर्णिका कुंडू के पिता को है बेटी के खिलाफ 'षड्यंत्र' का भय
कैंब्रिज जाएंगे सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल्स (Navbharat Times 21.10.2016)
सरकार चालू करेगी चाइल्डहुड केयर सेंटर (Dainik Jagran 21.10.2016)
केंद्र सरकार हमें परेशान कर रही है : केजरीवाल (Dainik Bhaskar 20.10.2016)
दिवाली तक स्ट्रीट वेंडरों के खिलाफ कार्रवाई नहीं (Amar Ujala 20.10.2016)