Sunday, December 17, 2017
Follow us on
National

दिल्ली से बाहर पढ़ने वाले बच्चों को भी मिलेगा  एजुकेशन गारंटी लोन स्कीम का फायदा

May 23, 2017 06:42 PM

नई दिल्ली। दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़कर जेईई (मेन्स) क्वालिफाई करने वाले 372 बच्चों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार की एजुकेशन गारंटी लोन स्कीम का फायदा दिल्ली से बाहर पढ़ने वाले बच्चों को भी मिलना चाहिए। विभाग इसके लिए जरूरी इंतजाम करे। उन्होंने कहा, अगर कोई बच्चा अपनी फीस नहीं दे सकता, इस वजह से उसको हायर एजुकेशन न मिले, ये गलत बात है।

अब तक ये केवल दिल्ली के कॉलेजेस के लिए था। लेकिन अब दिल्ली से पढ़ाई करने वाले बच्चों को दुनिया के किसी भी कॉलेज में एडमिशन मिले तो उसे इस स्कीम का फायदा मिलना चाहिए।

लेकिन जब पैरेंट्स किसी बैंक के पास एजुकेशन लोन लेने जाते हैं, तो बैंक कहते हैं कि कुछ गिरवी रखो। अब गिरवी रखने के लिए कुछ होता तो वो गरीब क्यों होता। इसीलिए सरकार में आने के बाद हमने एक स्कीम शुरू की थी कि आपको एजुकेशन लोन के लिए कुछ भी गिरवी रखने की जरूरत नहीं है। सरकारी आपकी गारंटी देगी। आपको हायर एजुकेशन के लिए 10 लाख रुपये तक का लोन मिल जाएगा। अब तक ये केवल दिल्ली के कॉलेजेस के लिए था। लेकिन अब दिल्ली से पढ़ाई करने वाले बच्चों को दुनिया के किसी भी कॉलेज में एडमिशन मिले तो उसे इस स्कीम का फायदा मिलना चाहिए। मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि जिस तरह स्कूल इंफ्रास्ट्रक्चर को सुधारने के लिए, स्कूलों में नये कमरे बनवाने के लिए युद्ध स्तर पर काम हुआ है, उसी तरह टीचर्स की कमी को पूरा करने के लिए हमें युद्ध स्तर पर काम करना है। 

Have something to say? Post your comment
More National News
दिल्ली में ‘प्रदूषण’ और एल.जी. बने दमघोंटू
सरकार का बड़ा ऐलान : ये 40 सेवाएं अब दिल्ली वासियों को घर बैठे मिलेंगी, अफसरों के चक्कर काटना बीते दिनों की बात
अब दिल्ली में तैयार होगा ‘राशन’ का होम डिलीवरी नेटवर्क
अल्का के ‘सैनेटरी पैड्स’ और भक्तों की ‘गाय’
‘प्रदूषण’ का खेल खेलते नेताओं का अखाड़ा बनी ‘दिल्ली’
केजरीवाल का केंद्र सरकार को जबाब, पहले पानी का छिड़काव अब ऑड-ईवन
'नोटबंधी' के 'हिटलरी फरमान' से जनता को दिया धोखा
जो न कर पाई 'केंद्र सरकार', वो करेगी 'आप सरकार'
नार्थ घोंडा की तेजराम गली और प्रजापति गली के निर्माण कार्य का शुभारंभ
‘अरविंद केजरीवाल और योगेंद्र यादव हमारी वर्तमान राजनीति की दो ज़रूरतें हैं’