Sunday, June 25, 2017
Follow us on
BREAKING NEWS
दिल्ली में साफ़-सफ़ाई को लेकर फिर बीजेपी के ढाक के तीन पात 120 दिन के वादे में से आधा समय निकला लेकिन अब भी कचरा-कचरा दिल्ली प्रधानमंत्री कार्यालय ने एम्स के 7 हज़ार करोड़ के घोटाले को दबाया, स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी दी क्लीन चिटएक राजनीतिक षडयंत्र के तहत ऑफिस छीनकर 'आप' की ताक़त को ध्वस्त करना चाहती है केंद्र सरकारपाकिस्तान में जाधव को फांसी की तैयारी और भारत द्वारा पाकिस्तानी क़ैदियों की रिहाई, क्या यही मोदी जी का राष्ट्रवाद है? | Release 11 Pakistani civil prisoners मध्यप्रदेश में किसानों की हत्या की दोषी है सरकार, इस्तीफ़ा दें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान | MP farmers protestकैप्टन व कैप्टन के मंत्रियों को नहीं दी जाएगी पंजाब में लूट की छूटAn Insignificant Man एक फिल्म जिससे राजनीति में आ सकता है 'भूचाल' राणा गुरजीत की बर्खास्तगी के लिए ‘आप ’ का कैप्टन को अल्टीमेटम
AAP Vision

कांस्टेबल जगबीर के परिवार को दिलाए 1 करोड़.

October 29, 2014 09:03 PM


गृहमंत्रालय से मृतकों के परिज़नों की सहायता के लिए ठोस नीति बनाने का अह्वाहन.
राष्ट्रीय राजधानी में ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों पर बदमाशों के बढ़ते हमले चिंता का विषय हैं। पिछले दिनों दो दिनों के अन्तराल मेें, दो अलग अलग स्थानों पर ड्यूटी पर तैनात कांस्टेबलों पर हमले किए गए। इन्हीं ’घटनाओं में से एक घटना में एक कांस्टेबल जगबीर की जान चली गयी। आम आदमी पार्टी ने जगबीर के परिवार को केंद्र से एक करोड़ का मुआवज़ा दिलवाया है। ड्यूटी के दौरान पुलिस कर्मियों पर खुले आम किए जा रहे यह हमले राष्ट्रीय राजधानी में कानून और व्यवस्था की खस्ता हालत को बखूबी बयां करते हैं। आम आदमी पार्टी ड्यूटी पर अपना जीवन खोने वाले पुलिस कर्मियों के परिजनों को एक करोड़ का मुआवजा दिए जाने का ऐलान अपने शासन काल में पहले ही कर चुकी थी। आम आदमी पार्टी का स्पष्ट मत है कि ड्यूटी के दौरान मुठभेड़ में मारे जाने वाले पुलिस कर्मी भी एक शहीद हैं, और उन्हें शहीदों सा सम्मान तो मिलना ही चाहिए। अरविन्द केजरीवाल ने यह ऐलान 28 दिसंबर 2013 को शहीद कांस्टेबल विनोद कुमार के परिवार को एक करोड़ का मुआवजा देने के साथ ही किया था. शहीद विनोद कुमार की हत्या दक्षिण दिल्ली में घिटोरनी गांव के निकट जंगल में शराब माफिया द्वारा 27 दिसंबर को की गई थी।

अरविन्द केजरीवाल ने यह ऐलान 28 दिसंबर 2013 को शहीद कांस्टेबल विनोद कुमार के परिवार को एक करोड़ का मुआवजा देने के साथ ही किया था. शहीद विनोद कुमार की हत्या दक्षिण दिल्ली में घिटोरनी गांव के निकट जंगल में शराब माफिया द्वारा 27 दिसंबर को की गई थी

“आप” ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से मांग करते हुए कहा है कि तुरंत शहीद होने वाले पुलिस कर्मियों के परिजनों को राहत देने के लिए ठोस नीति बनाई जाए जिसके तहत न्यूनतम एक करोड़ का मुआवज़ा सुनिश्चित किया जाए। दिल्ली क्षेत्र में इस तरह की वारदातों में लगातार इज़ाफा हो रहा है। जून में भी एक कांस्टेबल मन्ना राम, जो एक गाड़ी से रौंद कर मौत के घाट उतार दिया गया था। अरविंद केज़रीवाल ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि यह भी सोचनीय है कि जिस तरह के हथियार कांस्टेबल को दिए जाते हैं वो किसी भी तरह के आपातकालीन स्थति से निपटने के लिए सक्षम नहीं है.
अरविंद ने मांग की है कि भाजपा की केंद्र सरकार और लेफ्टिनेंट गवर्नर कानून और व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने और फील्ड कर्तव्यों पर पुलिस कर्मियों को आवश्यक सुरक्षा प्रदान करने के लिए पर्याप्त कदम उठाएं।

Have something to say? Post your comment