Sunday, November 18, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षरआप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरीकिसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तारअनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमतिबेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौरकर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायणराजस्थान की राजनीति में तूफान, प्रदेश के बड़े किसान नेता भाजपा छोड़ ’आप’ में शामिल
National

बादल को जिताने के लिए कैप्टन अमरिन्दर सिंह दो सीटों पर चुनाव लडऩे जा रहे हैं -फूलका, हिम्मत है तो एक सीट से ही लडे कैप्टन

January 15, 2017 04:51 PM
चंडीगढ़:
आम आदमी पार्टी के नेता और सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील एचएस फूलका ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह की तरफ से पटियाला के इलावा लम्बी से चुनाव लडऩे वाले ब्यान पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कैप्टन को चुनौती दी है कि यदि उनमें हिम्मत है तो वह एक ही सीट से चुनाव लड़े . फुल्का ने इसे बादल को जिताने की कवायद करार दिया है. 
पत्रकारों से बातचीत करते हुए करते फूलका ने कहा कि यदि कैप्टन अमरिन्दर सिंह में हिम्मत है तो सिर्फ लम्बी से ही चुनाव क्यों नहीं लड़ते, वह दुविधा में क्यों हैं।

फुल्का ने कहा कि कांग्रेस और  अकाली दल कि आपस में मिली भगत है इसी वजह से कैप्टन लंबी से चुनाव लड़ रहे हैं. फुल्का ने कहा कि कांग्रेस सिद्धू को भी दो जगह से चुनाव लड़ आ रही है जो इन दोनों पार्टियों की आपस में मिलीभगत का सबसे बड़ा सबूत है.

फूलका का कहना है कि कैप्टन को अपनी हार स्पष्ट नजर आ रही है, जिस कारण वह 2 सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। 
फूलका ने आरोप लगाते हुए कहा कि बादल और कैप्टन आपस में मिले हुए हैं और कैप्टन अमरिन्दर सिंह लम्बी के बादल को जिताना चाहते हैं। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि यदि कैप्टन अमरिन्दर सिंह को भरोसा है कि पंजाब के लोग उनको प्यार करते हैं तो वह लम्बी से ही चुनाव लड़ें।  
फूलका ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह को चुनौती देते कहा कि सिर्फ हवा में बातें करने से कुछ नहीं होता और दो-दो सीटों से चुनाव लडऩे का कोई मतलब नहीं है, यदि दम है तो कैप्टन सिर्फ एक सीट से ही चुनाव लड़ कर दिखाएं। पंजाब के लोगों से कैप्टन अमरिन्दर सिंह बहुत बड़ा धौखा कर रहे हैं।

फुलका ने कहा कि पंजाब की जनता अकाली दल और कांग्रेस के बारे सब समझ चुकी है  यही वजह है  की जनता  दोनों से छुटकारा चाहती है यही वजह है कि आम आदमी पार्टी विकल्प बनकर उभरी है. उन्होंने अपना वादा दोहराते हुए कहा कि सरकार बनने पर पंजाब को भ्रष्टाचारियों से और नशे के कारोबारियों से मुक्ति दिलाई जाएगी.

फूलका ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू को कांग्रेस दो सीटों से चुनाव लड़ाने की बात कह रही है। उन्होंने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू को अमृतसर और जलालाबाद से चुनाव लड़ाने की बात हो रही है, जो कि कांग्रेस की अकालियों के साथ मिलीभगत का ही सबूत है, क्योंकि आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार भगवंत मान जलालाबाद में इतने हरमन प्यारे हो चुके हैं कि जलालाबाद में सुखबीर बादल का बुरा हाल है और कांग्रेस जलालावाद से सुखबीर बादल को जिताने के लिए नवजोत सिद्धू को वहां से चुनाव लड़ाना चाहती है.
उन्होंने आगे कहा कि पंजाब के लोग बहुत समझदार हैं और अब अकालियों और कांग्रेसियों की बातों में नहीं आऐंगे। फूलका ने कहा कि पंजाब के रवाइती पार्टियों की गंदी राजनीति से तंग आ चुके हैं और कांग्रेस और अकाली दल से छुटकारा पाना चाहते हैं और उनके पास आम आदमी पार्टी एक बढिय़ा विकल्प है, जिसको पूरे पंजाब में भरपूर समर्थन मिल रहा है। उन्होंने कहा कि पंजाब में आगामी सरकार आम आदमी पार्टी की बनेगी और आम आदमी पार्टी ही पंजाब के लोगों को माफिया और भ्रष्टाचारियों के चंगुल से आजाद करवाएगी।  
Have something to say? Post your comment
More National News
भाजपा सांसद का सिग्नेचर ब्रिज उद्घाटन समारोह में हंगामा
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षर
आप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट
महिलाओं ने लोकसभा चुनावों में 'आप' को वोट देने का किया आह्वान
नगर-निगम के स्कूलों की बुरी हालत पर भाजपा को घेरा
28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरी
किसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तार
अनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमति
बेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौर
कर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायण