Sunday, June 25, 2017
Follow us on
BREAKING NEWS
दिल्ली में साफ़-सफ़ाई को लेकर फिर बीजेपी के ढाक के तीन पात 120 दिन के वादे में से आधा समय निकला लेकिन अब भी कचरा-कचरा दिल्ली प्रधानमंत्री कार्यालय ने एम्स के 7 हज़ार करोड़ के घोटाले को दबाया, स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी दी क्लीन चिटएक राजनीतिक षडयंत्र के तहत ऑफिस छीनकर 'आप' की ताक़त को ध्वस्त करना चाहती है केंद्र सरकारपाकिस्तान में जाधव को फांसी की तैयारी और भारत द्वारा पाकिस्तानी क़ैदियों की रिहाई, क्या यही मोदी जी का राष्ट्रवाद है? | Release 11 Pakistani civil prisoners मध्यप्रदेश में किसानों की हत्या की दोषी है सरकार, इस्तीफ़ा दें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान | MP farmers protestकैप्टन व कैप्टन के मंत्रियों को नहीं दी जाएगी पंजाब में लूट की छूटAn Insignificant Man एक फिल्म जिससे राजनीति में आ सकता है 'भूचाल' राणा गुरजीत की बर्खास्तगी के लिए ‘आप ’ का कैप्टन को अल्टीमेटम
Interview

'मेरी आंखों में आंखें डाल कर कहें बेदी कि मैं बेईमान हूँ|

February 04, 2015 11:04 AM

दिल्ली चुनाव के आखिरी चरण पर आम आदमी पार्टी (आप) की फंडिग प्रक्रिया सवालों के घेरे में है। केंद्रीय वित्त मंत्री हवाला से पैसा लेने का दावा कर रहे हैं। वहीं, किरण बेदी की अगुवाई में आप पर भाजपा का हमला रोजाना तीखा होता जा रहा है। इन सबके बीच आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने खुद पर लगे आरोपों का अमर उजाला संवाददाता संतोष कुमार को बेबाकी से जवाब दिया।

सवाल: क्या आपको लगता है कि कंपनियों से चंदा लेने में चूक हुई है? आपका सिस्टम फेल हुआ? जवाब: हमने सारी जांच की थी। इससे ज्यादा हम क्या सकते हैं? जिस कंपनी ने पैसा दिया, वह रजिस्टर्ड है। उसका पैन नंबर और बैंक अकाउंट है। पेमेंट चेक में लिया। कुछ लोग कह रहे हैं कि पैसा हवाला से आया है। हवाला का पैसा कभी चेक से आता है क्या? जो लोग कह रहे हैं उन्हें पता ही नहीं कि हवाला क्या है? उस कंपनी के पास पैसा कहां से आया, जांच करो। दोषी हूं तो जेल भेजो। सारी एजेंसियां आपके पास हैं।

सवाल : कोई सुधार की जरूरत महसूस होती है क्या?
जवाब : कल से सोच रहा हूं क्या सुधार करें? कल को मेरे पास कोई पैसा देने आए तो क्या देखूं। क्या अपना आदमी भेजकर उसका एड्रेस पता कराऊं। या यह उसका बही-खाता देखूं। मैं पूछूं कि आपका पैसा कहां से आया तो कहेगा कि डोनेशन लेना हो तो लो, नहीं तो मैं चला। अगर पैसे की एंट्री छुपाता तो इलजाम लगा सकते थे। सबको बता दिया कि हमारा सिस्टम फुलप्रूफ है।

सवाल: किरण बेदी का भाजपा में जाना बड़ा मास्टर स्ट्रोक था क्या? बेदी के जाने के बाद से आपका हमला नरम हुआ है, जबकि भाजपा तीखा हमला कर रही है आप पर?
जवाब : किरण बेदी को लेना डिजास्टर स्ट्रोक था। आरएसएस यही कह रहा है। हां, हमला भाजपा नहीं कर रही हम पर। बेदी चुनाव को लीड कर रही हैं। इसी बात से हमें सबसे ज्यादा दुख है। जो विज्ञापन आ रहा है, वह सारा किरण बेदी के दफ्तर में उनके निर्देशन में डिजाइन हो रहा है। वह हमको जानती हैं। तीन साल काम किया। फिर भी, पहले बच्चों पर, फिर गोत्र पर निशाना साधा।

आज तो मेरी ईमानदारी पर सवाल उठा रही हैं। कट्टर विरोधी भी ईमानदारी पर सवाल नहीं उठा सके। राजनीति के लिए इस स्तर पर नहीं जाना चाहिए। मैं आज आपके अखबार के माध्यम से बेदी से अपील करता हूं कि मेरी आंखों में आंखें डाल कर कहें कि मैं बेईमान हूं। इस तरह के निजी हमले मत करें।

पेमेंट चेक में लिया। कुछ लोग कह रहे हैं कि पैसा हवाला से आया है। हवाला का पैसा कभी चेक से आता है क्या?

सवाल : कभी आपके साथ रहे आवाम के करण सिंह कह रहे हैं कि सारा प्रूफ मनीष सिसोदिया के सहयोगियों ने दिया। क्या कहेंगे?
जवाब : प्रूफ अमित शाह ने दिया है। आवाम भाजपा का हिस्सा है। करण सिंह पहले थे। सारे भाजपा में चले गए हैं। पहले कुछ लोग थे। क्या फर्क पड़ता है। जबरदस्ती मुद्दा बनाया जा रहा है। जांच कराओ, पता चल जाएगा।

सवाल : आरोपों से आपके अभियान पर कुछ असर पड़ेगा क्या?
जवाब : जमीनी स्तर पर भाजपा चुनाव हार चुकी है। ये लोग अब वह गंदी राजनीति पर उतर आए हैं। वह केवल कीचड़ फेंकने की कोशिश कर रहे हैं। कि कुछ तो चिपक जाएगा हम पर।

सवाल : पिछले चुनाव की तरह इस बार आप राजू धींगान, प्रकाश, राखी बिड़लान जैसा आम दिखने वाले चेहरे नहीं ढूंढ सके। क्या वजह रही इसकी।
जवाब : हमने कहा कि ईमानदार उम्मीदवार देंगे। दौलत ईमानदारी से कमाई है तो क्या गुनाह है। सारे आम लोग हैं। आम कौन है। हमारे सारे उम्मीदवार ईमानदार हैं। सभी अच्छे हैं।

सवाल : इस बार दिल्ली सरकार के राजस्व में कमी आई है। ऐसी हालत में सरकार में आने पर क्या आप अपने वादों को पूरा कर सकेंगे?
जवाब : दिल्ली में भाजपा की सरकार थी। सात महीने में राजस्व कम हुआ। भाजपा फेल हो गई है, जबकि 49 दिन की हमारी सरकार में रिकॉर्ड टैक्स मिला। सरकार में पैसे की कमी नहीं, नीयत की कमी है। हमने एक-एक चीज का बजट बनाया है। हम अपने सारे वादे तय समय में पूरा करेंगे।

 

सौजन्य से :-http://www.delhincr.amarujala.com/feature/delhi-news-ncr/kejriwal-interview-hindi-news-jn/page-3/

Have something to say? Post your comment
More Interview News