Saturday, May 27, 2017
Follow us on
Interview

एमसीडी के भ्रष्टाचार को खत्म करने में अरविंद जी के सिपाही की भूमिका में रहना चाहता हूं: रमेश

April 22, 2016 05:10 PM

दिल्ली में होने जा रहे नगर निगम चुनावों में रमेश मटियाला वार्ड नं. 136 से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार हैं। रमेश भ्रष्टाचार से तंग आकर अन्ना आंदोलन में कूद पड़े थे। पार्टी बनी तो भ्रष्ट व्यवस्थाओं को बदलने के संकल्प के साथ आम आदमी पार्टी में भी उत्साह से जन सेवा में जुट गए। इनकी ईमानदारी और मेहनत देखकर आम आदमी पार्टी ने इन्हें नगर-निगम चुनावों में अपना उम्मीदवार घोषित किया है। ‘आप की क्रांति’ के संपादक गोपाल शर्मा ने हाल ही में इनसे मुलाकात कर भाजपा शासित एमसीडी के भ्रष्टाचार पर इनके विचार जाने व इसे दूर करने की इनके जहन में योजना को टटोला। पेश है इसी बातचीत के कुछ प्रमुख अंश।

- भ्रष्टाचार मुक्त नगर निगम बनाने भूमिका निभाना चाहते हैं मटियाला
- अरविंद केज़रीवाल के साथ काम करने को सबसे बड़ा सौभाग्य मानते हैं रमेश
- अरविंद जी की ईमानदारी और कार्यप्रणाली से प्रेरित हो ‘आप’ में हुए शामिल
- नगर निगम कर्मचारियों की अवैध वसूली से आहत हैं रमेश
आप की क्रांति - आम आदमी पार्टी जैसी ईमानदार पार्टी ने एमसीडी चुनावों में आपको अपना उम्मीदवार घोषित कर दिल्ली के सबसे बड़े वार्ड से चुनाव मैदान में उतारा है क्या कहना चाहेंगे ?
रमेश मटियाला - मैं सर्वप्रथम अरविंद जी का धन्यवाद करना चाहूंगा जिन्होंने मुझे इस लायक समझा और मुझे लोगों के बीच जाने का मौका दिया। मैं पूरी सच्चाई और ईमानदारी से काम करूंगा और जनता की प्रत्येक समस्या का समाधान करने का प्रयास करूंगा। यह मेरा सौभाग्य है कि मुझे यह मौका दिया गया है।
आप की क्रांति  - आपके इलाके की मुख्य मुद्दे क्या हंै जिनको लेकर आप जनता के बीच जा रहे हैं ?
रमेश मटियाला - जिस इलाके से मुझे टिकट दिया गया है वहां की हालत बहुत खराब है, समस्याओं की भरमार है, मेरा दुर्भाग्य है कि मेरे इलाके के लोगों को इतनी गंदगी और समस्याओं के बीच रहना पड़ रहा है, मेरी यही इच्छा है कि मैं पार्षद चुनकर इस इलाके के लोगों की सेवा कर सकंू और यहां की जनता को एक स्वच्छ वातावरण दे सकूँ।
आप की क्रांति - ‘आप’ सरकार को सवा साल का कर्यकाल पूरा हो चुका है इस कार्यकाल के दौरान ‘आप’ द्वारा इस वार्ड में क्या-क्या काम किए गए हैं ?
रमेश मटियाला - इस वार्ड में सबसे बड़ी समस्या पानी की थी, टैंकर माफिया का बोलबाला था। आम आदमी पार्टी की सरकार आते ही इस वार्ड में घर-घर पानी पहुंचने लगा। टैंकरों की राजनीति अब बीते दिनों की बात हो चुकी है। इस समस्या के निदान से लोगों को बड़ी राहत मिली है।

इस वार्ड में सबसे बड़ी समस्या पानी की थी, टैंकर माफिया का बोलबाला था। आम आदमी पार्टी की सरकार आते ही इस वार्ड में घर-घर पानी पहुंचने लगा। टैंकरों की राजनीति अब बीते दिनों की बात हो चुकी है। इस समस्या के निदान से लोगों को बड़ी राहत मिली है।


आप की क्रान्ति - इस विधानसभा में सड़क, सीवर और स्ट्रीट लाइटों की क्या स्थिति है ?
रमेश मटियाला - विधानसभा में जो काम दिल्ली सरकार के अधीन आते हंै वह ही दुरुस्त हैं और जो काम नगर निगम के अधीन आते हैं उनके हालात दयनीय हंै। इलाके में 458 नगर-निगम के कर्मचारी लिस्ट के हिसाब से कार्यरत है,ं जबकि 200 कर्मचारी ही काम पर आते हंै। इलाके में जगह-जगह गन्दगी के ढेर लगे हुए हैं। नगर-निगम में नीचे से ऊपर तक भ्रष्टाचार फैला हुआ है, इस सिस्टम को सुधारने के लिए जनता को आम आदमी पार्टी को एक बार ठीक उसी भांति एमसीडी की कमान भी सौंपनी होगी जैसे दिल्ली सरकार की कमान उसने ‘आप’ को सौंपी तभी एमसीडी के भ्रष्टाचार से दिल्ली वासियों को निज़ात मिल सकेगी।
आप की क्रांति - रमेश जी इन चुनावों में पार्षद बनने के उपरांत आप किस तरह जनता की समस्याएं दूर करेंगे ?
रमेश मटियाला - सबसे पहले सिस्टम बदला जाएगा, सभी की रोजाना हाजरी ली जाएगी, सुनिश्चित किया जाएगा कि कितने कर्मचारी वास्तव में काम कर रहे हंै उनको सुविधाएं दी जाएंगी। अभी सफाई निरीक्षक कर्मचारी सफाई का साज़ो सामान न होने का बहाना बनाते हंै, उनको सारा सामान मुहैया कराया जाएगा ताकि ढंग से काम किया जा सके।
आप की क्रांति - राजनीति में आने की क्या वजह है और ‘आप’ से ही जुड़ाव की कोई खास वजह ?
रमेश मटियाला - केज़रीवाल जी की ईमानदारी और कार्यों को देखकर मेरा आप की तरफ रुझान बढ़ा जनता की सेवा करने और अच्छे काम करने के लिए राजनीति की ओर रूख किया और ‘आप’ से जुड़ गया। काफी समय से समाजसेवा करता रहा हूं लोगों की समस्याओं का समाधान निकालता रहा हूँ। अब अरविंद जी के साथ मिलकर काम करने और लोगों की सेवा करने का मौका मिला है।
आप की क्रान्ति - पार्षद बनने के बाद आप प्रमुखता से अपने क्षेत्र में क्या कुछ करना पसंद करेंगे ?
रमेश मटियाला - सबसे पहले तो भ्रष्टाचार मुक्त नगर-निगम बनाना है ताकि लोगों को भ्रष्टाचार से मुक्ति मिले, अभी नगर-निगम कर्मचारी प्रत्येक लेंटर पर 20 से 50 हजार रूपये वसूलते हैं , जो सरासर गलत है. एक गरीब इंसान बड़ी मुश्किल से पैसे जोड़कर अपना घर बनता है लेकिन यह लोग उसकी मज़बूरी न समझते हुए उससे पैसे वसूलते हैं , कर्मचारियों की संख्या सुनिश्चित की जाएगी, सफाई का ध्यान रखवाया जाएगा, पानी के भराव की समस्या खत्म और निकासी की व्यवस्था दुरुस्त की जाएगी। एमसीडी के भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म कर एमसीडी में पारदर्शी व्यवस्था बनाई जाएगी।

Have something to say? Post your comment
More Interview News