Sunday, December 17, 2017
Follow us on
AAP Vision

राजनीतिक फंडिंग : चंदा अथवा क़ाला धन

August 31, 2014 02:23 AM

केन्द्रीय गृहमंत्री जी ने आम आदमी पार्टी की फंडिंग की जाँच के लिए जो अति सक्रियता दिखायी है काश उन्होंने इतनी सतर्कता देश की आंतरिक हालात पर भी दिखायी होती तो इनके गृहमंत्री बनने के बाद एक भी आतंकवादी वारदात नहीं हुई होती । वर्तमान में कांग्रेस के अधिकतर मंत्री अपने ऐसे ही उजूल फिजूल बयानों के लिए सुर्ख़ियों में रहने के आदी हो चुके है तथा अपने पद के अनुरूप कार्य करने में असक्षम दिखायी देते हैं ।

आप की फंडिंग के बारे में शिंदे पर पलटवार करते हुए कुमार विश्वास ने कहा कि गृह मंत्री अपने पद के अनुसार काम नहीं कर रहे है। उन्होंने कहा कि गृहमंत्री का यह काम नहीं है कि मीडिया में आकर सनसनीखेज आरोप लगाएं। वह तुरंत एफआईआर दर्ज कराते हुए जांच कराएं। कुमार विश्वास ने कहा कि हम अपने पार्टी के चंदे की जांच कराने के लिए तैयार है लेकिन कांग्रेस और बीजेपी के चंदे की भी जांच होनी चाहिए।

अजीब हाल है इन मंत्रियों का कभी शीला दीक्षित प्याज के सटोरियों से विनती करती नजर आती हैं कि मैं अनुरोघ करती हूँ कि कृपया प्याज को बाजार में आने दें रोंके नही तो कभी शिंदे जैसे मंत्री जाँच कराने की बजाय मामले को सनसनीखेज बनाते हैं । गृहमंत्री को इस मामले में ऐसे टुच्चे अरोप लगाने की बजाय खुद पहल करनी चाहिए और शुरूआत स्वंय अपनी पार्टी से करनी चादिए आखिर वहीं तो सबसे लम्बे समय से इस देश में शासन करती आ रही है ।

लोकतंत्र का तकाजा और जनता की मांग के अनुसार मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी द्वारा सत्ता पक्ष को इतना मजबूर किया जाना चाहिए कि कांग्रेस अपने फंडिंग को सार्वजनिक करने को राजी हो जाय तत्पश्चात अन्य राष्ट्रीय पार्टियों और अन्य क्षेत्रीय दल भी अपने फंडों को सार्वजनिक करने को मजबूर होना पड़े ।

आम भारतीयों की नजरों में इन नेताओं की कीमत अब कोड़ियों की भी नही रही क्योंकि आम आदमी का उपहास ये लोग बडी बेशर्मी से उडाते हैं । इसी काले धन से ये राजनीतिक दल चुनाव लड़ते हैं सारी राजनीतिक बिरादरी तथा उनकी पार्टियां इसी काले धन से आम आदमी को धमका कर लालच दे कर अपने अपने पक्ष में वोट डालने को मजबूर कर रहे है। इससे इनकी ग्रैविटी की तो ऐसी की तैसी हो चुकी है साथ सबसे बडा नुकसान लोकतंत्र का हो चुका है । इन दलों को जब जब आम आदमी ललकारता नजर आता है तो सारे दल एक साथ आम आदमी पर पिल पडते हैं । इसी कारण ये लोग अपने आप को सूचना के अधिकार के पार्टियां नहीं लाना चाहते हैं ।

राजनीतिक दलों को मिल रहे चन्दे पर यदि सारी राजनीतिक जमात आम आदमी पार्टी के खिलाफ एकजुट हो चुके है । आम आदमी की नजरों में यह भानुमति का पिटारा अब खुल ही जाना चाहिए । आखिर जनता को भी अधिकार है वह भी यह जाने की हमारे राजनीतिक दल कहाँ से चन्दा लेते है। अगर अब भी ये नेता नहीं जागें तो ये लोकतंत्र के सबसे बडे हत्यारे कहलायेंगे ।

–दौलत सिंह नेगी

Have something to say? Post your comment